सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

रौशनी पर मंहगाई....बिजली का बिल या गले का फंदा?



रोजमर्रा की भाषा में बात करें तो हमें रोज कई प्रकार के लेन -देन के लिये हमें पहले बिल दिया जाता है फिर हम उसका भुगतान करते हैं किन्तु छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत मंडल द्वारा जारी किया जाने वाला बिजली का बिल इन सब बिलों में अनोखा है-करीब सोलह इंच लम्बे इस बिल को न तो कोई समझ सका है और न  समझ पाता है. वास्तविकता यही है कि यह किसी भी आम आदमी के न तो पल्ले पड़ता है और न पड़ सकता है. यहां तक कि पड़े लिखे लोगों के भी पल्ले नहीं पड़ता. बिजली बिल हर माह पहुंचता है. किसी माह बराबर आता है तो किसी माह उसमें दुनियाभर का मीटर चार्ज,सर्विस टैक्स,फिक्सेड डिपाजिट और फलाना ढिकाना मिलाकर उपभोक्ता का ब्लड प्रेशर बढा देता हैं. बिल ऐसा लगता है जैसे गले में डालने के लिये फंदा भेज दिया हो.अगर किसी के घर में  एक मीटर हो तो सोलह इंच लम्बा एक फंदा और अगर किसी के घर में दस मीटर लगा हो तो सोलह- सोलह इंच के दस फंदे पहुंच जाते हैं. यह आज से नहीं वर्षो से यूं ही चला आ रहा है. मशीन से घर पर बिल देने से पहले एक कापी के कागज साइज का छोटा बिल आता था उसे तो लोग कुछ पड या समझ भी लेते थे किन्तु अभी का बिल सुविख्यात हिन्दी और अंगे्रजी के विशेषज्ञों द्वारा तैयार कर तकनीकी क ठोर भाषा का प्रयोग कर परोसते हैं. शायद इसलिये भी कि कोई इसे आसानी से समझकर विद्युत मंडल के दफतर न पहुंच जाये. बात सही भी है जब किसी को समझ में आये तब तो वह विवाद करें! विद्युत भगवान के इस बिल के आगे लोगों के सामने बस एक ही चारा रहता है कि वह चुपचाप विद्युत नियामक आयोग का बिल दोनों हाथों से ग्रहण करें और चुपचाप जितने का बिल आया है उसे नेट से या विद्युत नियामक आयोग की दुकान लगाये बैठे लोगो के हाथ में थमाकर पैसा पटा दे. हां चिल्हर जरूर साथ में रखे नहीं होने पर उसे भी या तो काटकर वहीं रख लिया जाता है या फिर जोड़कर दूसरे बिल में दे दिया जाता है.इस तरह अद्भुत विद्युत बिल जारी करने वाले विद्युत मंडल ने एक अप्रेल से फिर बिजली की दरें बढ़ा दी है यह ज्यादा बिजली उपभोग करने वाले उद्योगपतियों के लिये राहत देने वाला है तो उन गरीब लोगों के लिये मुसीबत खड़ी कर देने वाला है जो  शून्य से लेकर सौ यूनिट का उपयोग भी मुश्किल से करते हैं.हमारे प्रदेश में बिजली का उत्पादन इतना होता है कि हमें किसी से कटोरा लेकर मांगने नहीं जाना पड़ता, हम दूसरो को देते हैं और उनसे इसकी  एवज में पैसा भी वसूल करते हैं. कोयला हमारा, पानी हमारा संयंत्र हमारे और श्रम शक्ति हमारी- सब कुछ हमारा-हम स्वंय विद्युत उत्पादन करते हैं.  छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने हाल ही गर्व से यह घोषणा की थी कि हम बिजली किसी से लेने वाले नहीं देने वाले हैैं-हमे इस बात पर गर्व करना चाहिये लेकिन क्या बिद्युत मंडल का नियामक आयोग इस प्रदेश के लाखों करोड़ों लोगों के दर्द को महसूस करता है? इस अंचल के वासियों के लिये सिर्फ  रोशनी ही एक आवश्यकता नहीं है. तन ढकने के लिये कपड़े और सिर छिपाने के लिये छत के साथ उसे  हर महीने एक बहुत बड़ी रकम अन्य आवश्यक उपभोक्ता मदो पर भी खर्च करनी पड़ती है.ऐसी चीजो के दाम भी आज रौशनी से भी दुगनी है. विद्युत मंडल हर महीने की 22 और पच्चीस के बीच बिल पटाने का आदेश देता है्र नहीं पटाओ तो बडों की बिजली तो नहीं कटती लेकिन छोटे विद्युत उपभोक्ता जरूर उसकी चपेट में आ जाते हैं.. एक आम आदमी जो महीने में दस से बीस हजार रूपये कमाता है वह किस प्रकार सबसे बड़ी आवश्यकता बिजली का दर्दभरा मंहगा बिल पटायें? उसके सर  पर यह अकेला बिल  नहीं  रहता. घर का किराया, बच्चों की  फीस, टेलीफोन -मोबाइल के बिल, कपडे,स्वास्थ्य,गैस, पेट्रोल ओर न जाने ऐसे बिलो की समस्याएं भी रहती है. विद्युत विनायक ने अपनी  बात कहते हुंए और अपनी समस्याएं रखते हुए लोगों के सामने अपनी बढ़ी हुई चौदह प्रतिशत की दर को रख दिया लेकिन उसने लोगों के दर्द को न समझने की कोशिश की और न ही दूसरे स्त्रोतो से अपने  खर्चे का उपाय खोजने की कोशिश की.विद्युत अधिनियम 2002 की धारा 62के अंतर्गत बिजली की दरों का निर्धारण कर दिया गया है. चौदह प्रतिशत की बढ़ी हुई दरें अप्रेल फूल के दिन से लागू भी हो गई है.विद्युत नियामक आयोग ने दरों का निर्धारण करते समय प्रस्तावित सिद्वान्तों के अनुसरण की दुहाई दी है लेकिन क्या वास्तव मे छत्तीसगढ़ की गरीब जनता इस बडे हुए बोझ को अन्य बड़े हुए बोझ के साथ सहन करने को तैयार है? विद्युत मंडल वास्तव मे इस प्रदेश का सबसे कमाऊ विभाग है उसे ऐसे समय जबकि भीषण सूखे और अकाल की स्थिति व मौद्रिक संकट की स्थिति का समय है थोड़ा बहुत रहम आम लोगों पर करना था.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …