सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समाज को बांटे रखने में भी मास्टरी हासिल कर ली सरकारों ने!

रायपुर, शुक्रवार दिनांक 20 नवंबर 2010
समाज को बांटे रखने में भी मास्टरी
हासिल कर ली सरकारों ने!
क्या हमारी व्यवस्था खुद ही समाज को कई भागों में नहीं बांट रही? गरीब,निम्र वर्ग,मध्यम वर्ग, उच्च वर्ग, हरिजन, आदिवासी, अल्प संख्यक यह सब शब्द समाज द्वारा दिये गये नाम तो नहीं हैं। सरकार ने इन सबकी उत्पत्ति कर इसे अलग- अलग वर्गो में बांटा है। वोट बैंक की राजनीति के लिये किये गये इस वर्गीकरण ने आज देश के सामने कई मुसीबतें खड़ी कर दी। आजादी के बाद देश में कुछ ऐसे हालात थे कि लोग काफी संख्या में पिछड़े हुए थे। गरीब थे- इतने गरीब कि उन्हें दो जून की रोटी नहीं मिलती थी, पहनने के लिये कपड़े नहीं और रहने के लिये छत नहीं। बच्चों को वे पढ़ा नहीं सकते थे, स्वास्थ्य की सविधाएं उन्हें मिलती नहीं थी। ऐसे लोगों को सरकारी मदद देकर सरकार ने उन्हें इस लायक बना दिया कि- वे कुछ काम करने के लायक बन गये। इस दौरान उनके बच्चे भी अन्य बच्चों के साथ पढ-लिख गये और उन्होंने नौकरियों में अच्छे- अच्छे पद भी प्राप्त किये। ऐसे लोगों के लिये आरक्षण की व्यवस्था की गई। यह व्यवस्था एक समय सीमा तक होनी चाहिये थी, लेकिन सरकारे आती जाती रही, उसने यह नहीं सोचा कि गरीब जिसे वह मदद करता रहा है, कितना गरीब है? और जिसे आरक्षण देता रहा उसे और कितने दिन आरक्षण की जरूरत है। सरकारी व्यवस्था ने गरीबों को मदद और आरक्षण को एक धंधा बना लिया जिसके माध्यम से वह हर पांच साल में सत्ता मे आने का रास्ता बनाता। गरीब को गरीब बने रहने दो और आरक्षण पाने वालों को पुश्तों तक आरक्षण मिलता रहे ताकि वह सरकारी मदद के आगे सदैव नतमस्तक रहे तथा पार्टियों के वोटर बैेंक की तरह उन्हें सत्ता में लाते रहें। होना यह चाहिये था कि जिन गरीबों की मदद सरकार ने की, उसे वह देखे कि- मदद के बाद वह गरीबी रेखा से ऊंचा उठा कि नहीं? अगर उठ गया तो मदद बंद की जाये तथा इस बात का प्रयास करें कि आगे के वर्षो में गरीबों की संख्या न बढ़े। लेकिन सरकार की नीतियां हमेशा यही रही कि- गरीब को गरीब और आरक्षित को आरक्षित ही रहने दिया जाये। इसका नतीजा यह हुआ कि देश का जो टेलेंट है, वह या तो यहीं दबकर रह गया या फिर उसने विदेशों का रास्ता पकड़ लिया। गरीब वर्ग के नाम पर देश का एक ऐसा वर्ग सामने आ गया, जो गरीबों से उपर उठकर अपराधी प्रवृत्ति का हो गया तथा उसने एक तरह से असल गरीबों का हक उनसे छीनना शुरू कर दिया। कहीं एक बत्ती कनेक्शन तो कहीं चावल, कहीं मकान, शिक्षा, स्वास्थ्य के नाम पर यह वर्ग ऐसी सारी सुविधाएं, जो असल गरीबों को मिलनी चाहिये थी वह सरकार को गुमराह कर या सांठगांठ कर हासिल करने लगा। इस मदद के नाम पर सरकार से जारी होने वाला दस रूपये का अधिकांश भाग या तो अफसरों और इन योजनओं को चलाने वालों के जिम्मे चला जाता या फिर यह ऐसे कथित गरीब लूटकर ले जाते जिसे मजदूरी या कोर्ई काम करके परिवार का भरण- पोषण करना चाहिये था। गरीबों को सरकार वर्गीकृत कर मदद पहुंचाना चाहती है, तो वह अंधेरे में तीर मारने की जगह हकीकत का सामना करे। असल गरीब जी न सकने के कारण आत्महत्या कर रहा है। सरकार की जयजयकार कर उसकी मदद पर वोट देेने वाले कथित गरीब असल गरीबों का हक मार रहे हैं। सरकार यह सुनिश्चित करें कि वह जिसे मदद या आरक्षित कर सहायता पहुंचा रहा है। वह अब उसका वास्तविक हकदार है कि नहीं। मदद की एक समयावधि निश्चित करें। उस दौरान उसे पूरा उठ खड़े होने का मौका दे, तभी देश में लोग समानता से जी सकेंगें। भीख और मदद की बात आजादी के त्रेसठ सालों बाद अब कोई औचित्य नहीं रखता। भारतीय संविधान में सभी को समान अवसर उपलब्ध है, उसका उपयोग कर हर नागरिक को जीने का अधिकार है। समाज को बंाटने का काम अब बंद होना चाहये।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …