सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आजाद भारत में पैदा हुआ पहला प्रधानमंत्री!

.
युवाओं की अहम भूमिका रही...जाति-धर्म सब सीमाएं लांघी गई मोदी को जिताने के लिये...
कांग्रेस के भ्रष्टाचार और दस वर्षो के कुशासन से मुक्त होना चाहते थे लोग

 लोकसभा चुनाव 2014 में भाजपा को जो ऐतिहासिक जीत मिली है उसे भारतीय लोकतंत्र में किसी एक पार्टी को हासिल जीत में सबसे बड़ी  जीत है. पार्टी ने  दिल्ली, राजस्थान सहित कई राज्यों की सभी सीटें अपने नाम कर ली हैं तो कई राज्यों में दिग्गज क्षेत्रीय पार्टियों का सूपड़ा साफ कर दिया है। यह चुनाव  हम सब के लिए चौंकाने वाले हो सकते हैं, लेकिन नरेंद्र मोदी के लिए यह परिणाम अपेक्षित ही माना जा  रहा है क्योंकि 2011 के बाद से ही उन्होंने सुनियोजित रणनीति के तहत इसके लिए आगे बढ़ना शुरू कर दिया था। तब उन्होंने सद्भावना यात्रा शुरू की थी. अटलबिहारी वाजपेयी सरकार के समय वे जरूर कुछ हाशिये पर आ गए थे मगर 2004 के आम चुनाव में जब भाजपा की हार हुई तो उन्हें लगा कि अब वे केंद्र में प्रमुख भूमिका निभा सकते हैं. यह वह समय था जब लालकृष्ण आडवाणी ने पाकिस्तान में मोहम्मद अली जिन्ना की कब्र पर जाकर उनके लिए सराहना के शब्द बोल दिए. वे संघ के निशाने पर आ गए.अब मोदी के लिए मैदान खाली था. 2014 के चुनाव में मोदी के लिये हिंदी का पट्टा महत्वपूर्ण तो है पर जादुई अंक के लिए पर्याप्त नहीं। इसलिए उन्होंने ऐसी सीटों पर फोकस किया, जिन्हें आमतौर पर उपेक्षित किया जाता है, गोवा, दमन-दीव, अंडमान जैसे राज्यों की छोटी-छोटी सीटें. चुनाव के लिये मोदी ने पारंपरिक प्रचार अभियान के साथ नए तौर-तरीके भी अपनाए. वे बाहर से आए टेक्नोक्रेट थेप्त ऐसे आयोजन किए जिसने मोदी को एक कमोडिटी बना दिया.हैदराबाद में अगस्त में हुआ उनका वह भाषण जिसे सुनने के लिए पांच रुपए का टिकट खरीदना पड़ता था। इस सभा के लिए मोदी ने किसी सहयोगी दल की मदद नहीं ली.
थ्रीडी, होलोग्राम, चाय पार्टी, जैसे तरीके 18-23 साल के युवाओं को बहुत पसंद आए। कुछ नया करने की तलाश करने वाली पीढ़ी को लगा कि मोदी नया इनोवेशन कर सकते है। सितंबर 2013 से  मोदी ने लगातार  450 भाषण देकर बहुत बड़े इलाके तक पहुंचे. भाषणों और दौरों के जरिये उन्होंने पहले जनता में स्वीकार्यता बढ़ाई उसके बाद ही वे मीडिया के पास पहुंचे. प्रचार के दौरान वे लगातार नए आइडिया फेंकते रहें फिर चाहे वह 100 मेगा सिटी बनाने की बात हो या बुलेट ट्रेनें चलाने की.दिल्ली विधानसभा चुनाव  में  'आपÓ की जीत के बाद वे थोड़े विचलित नजर आए पर उन्होंने कोई गलती नहीं की वे अरविंद केजरीवाल की ओर से गलती होने का इंतजार करते रहें। केजरीवाल की चमक फीकी पड़ते ही उन्होंने 2002 के विकास के हिंदू मॉडल कै  को आधुनिक रूप दिया और फिर जोरदार अभियान छेड़ दिया.यह भी  दिलचस्प है कि 34 सालों में भाजपा संसद में कभी भी 182 से ज्यादा सीटें नहीं ला पाई,ऐसे में किसी को भी उम्मीद नहीं थी कि इस चुनाव में भाजपा 200-220 से ज्यादा सीटें ला पाएगी लेकिन मोदी की अगुवाई  में एनडीए ने 334 सीटें जीतने का करिश्मा कर दिखाया. इस चुनाव में  बीजेपी की स्वीकार्यता 35 फीसदी थी, वहां मोदी की स्वीकार्यता 65 फीसदी थी.पूरे चुनाव में युवा गेम चेंजर साबित हुआ.इस बार चुनाव और राजनीति से बेरुखी रखने वाले यही युवा न सिर्फ मत देने पहुंचे, बल्कि भाजपा को पूर्ण बहुमत तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई। मोदी को भाजपा के लिए जितने देशभर से वोट मिले, उस औसत से छह प्रतिशत ज्यादा समर्थन युवाओं का मिला।

राजस्थान, मध्यप्रदेश, गुजरात, हरियाणा, छत्तीसगढ़ जैसे भाजपा शासित राज्यों में युवाओं ने बढ़-चढ़कर खुद को वोटर के तौर पर रजिस्टर कराया और मतदान किया.नतीजा शुक्रवार को सामने आया तब पता चला कि उत्तरप्रदेश, बिहार और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में पहली बार पार्टी ने जातियों और समुदायों से जुड़कर वोट देने की परंपरा को तोड़ा. जहां चार फीसदी वोटों के अंतर से सरकारें बनती और गिरती रही हैं.वहां युवाओं का कांग्रेस को 19 प्रतिशत  और भाजपा को 39 प्रतिशत  वोट देना निर्णायक हो गया.देश में भाजपा को 33 फीसदी वोट मिले, लेकिन युवाओं ने 39 फीसदी भरोसा दिखाया. सबसे ज्यादा युवा वोटरों वाली 15 सीटों में से भाजपा को दस तो कांग्रेस को सिर्फ एक सीट मिली.उत्साह से भरे युवा जानते थे कि राष्ट्रीय मुद्दे क्या हैं, भ्रष्टाचार, महंगाई तो इनके ध्यान में थे ही लेकिन सबसे ज्यादा मजबूत नेतृत्व के लिए वोट दिया. कुल 81.5 करोड़ वोटरों में से 12 करोड़ 18-23 वर्ष वाले थे जिनने  इस बार सिर्फ और सिर्फ नरेन्द्र मोदी  को ही चुना. पूरे देश में 2000 से ज्यादा होर्डिंग्स आर्ैर  रेडियो और टीवी पर हर दिन 50-50 विज्ञापन बुक किए गए. ग्रामीण इलाकों के लिए खासतौर पर दूरदर्शन पर विज्ञापन बुक किए गये मोदी का प्रचार उन स्थानों तक पहुंचाया गया जहां आज तक भाजपा नहीं पहुंची थी, जैसे पूर्वोत्तर से लेकर केरल तक 16वें आम चुनाव में 282 सीटों पर विजय हासिल करने वाली भारतीय जनता पार्टी भाजपा को अकेले अपने दम पर बहुमत मिल चुका है. भाजपा गठबंधन को कुल 335 सीटें मिली हैं. यानी यह एक भारी जीत है. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर भाजपा की इस अभूतपूर्व जीत के पीछे क्या कारण थे. और क्या भाजपा की इस जीत ने कुछ पुराने जमे-जमाए राजनीतिक समीकरण बदल दिए हैं.कांग्रेस ने भाजपा के लिए अकेले खेलने के लिए पूरा मैदान खाली छोड़ दिया था. इसकी एक कारण कांग्रेस के प्रति लोगों में आक्रोश था. इसकी वजह से ढेर सारे मतदाताओं ने, जिन्होंने पहले कांग्रेस और उसके सहयोगियों के लिए वोट किया था, इस बार उन्होंने भाजपा को वोट दिया.
ये सभी  परिवर्तन चाहते थे और भाजपा के रूप में राष्ट्रीय स्तर पर जो पार्टी विकल्प के रूप में दिखाई दे रही थी, उसे इन सबने वोट दिया. आमतौर पर माना जाता था कि भाजपा शहरी पढ़े-लिखे मध्य वर्ग की पार्टी है. भाजपा को जिस तरह वोट प्रतिशत मिला है, जिस तरह की सीटें मिली हैं उसके अऩुसार भाजपा ने इस धारणा  को तोड़ दिया है. भाजपा को छोटे छोटे ग्रामीण इलाके में अभूतपूर्व समर्थन मिला है. पहले कभी भी भाजपा को गांवों में इस तरह वोट नहीं मिला. पहले जाति यादव, पिछडा वर्ग और दलित वोट दिया करते थे. लेकिन ऊँची जातियों का वोट इस बार जिस तरह बिहार, उत्तर प्रदेश एवं अन्य कई राज्यों में मिला वैसा कभी नहीं देखा गया. चुनाव में जातीय समीकरण ध्वस्त हो गए हैं.मोदी  आजादी  के बाद पैदा हुए भारत के पहले  प्रधानमंत्री होंगें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …