संदेश

February, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मानवता शर्मसार है? अग्रिपथ...अग्रिपथ..अग्निपथ!

सब कुछ नकली, दवा तो हमें मारने के लिये ही बन रही!