सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन





 छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेता हैं. चंद उद्योग न केवल हमारें घरों को बर्बाद कर रहे हैं बल्कि हमारे जीवन से भी खिलवाड़ कर रहे हैं.हम यह नहीं कह रहे कि इन्हें पूर्णत: बंद कर दिये जाये. इन उद्योगों में कई लोगों को रोजगार मिला हुआ है.उनकी रोजी रोटी इसीपर चल रही है इसे बनाये रखते हुए उद्योगों से इस बात की सख्ती जरूरी है कि वे औद्यागिक नियमों का कड़ाई से पालन करें तथा प्रदूषण फैला रहे यंत्रों की जगह नये उपकरण  लगाये तथा प्रशासन इसपर सख्ती करें. बहरहाल जहां तक प्रदूषण का सवाल है इसका रिश्ता छत्तीसगढ़ से अविभाजित मध्यप्रदेश के समय से है. रायपुर शहर के लोग एक गंदी बदबू से परेशान रहते थे. यह हर मौसम में इस शहर के लोगों के लिये सरदर्द था. कुम्हारी में स्थिति एक डिस्टलरी के गंदे पानी से यह बदबू रायपुर शहर तथा आसपास दूर- दूर गांवों तक पहुंचती थी .ले देकर इस समस्या का हल राजधानी बनने के बाद या तो अपने आप निकला या फैक्ट्री ही बंद हो गई तो धीरे- धीरे समस्या  खत्म हो गई. उस समय एक दूसरी समस्या भी जन्म ले रही थी.स्पंज आयरन कंपिनियों से निकलने वाले काले धूल की. यह धूल आज पूरे रायपुर में जवान होकर उत्पात मचाये हुए  है. स्पंज आयरन उद्योगों से निकलने वाली बेधड़क और बेपरवाह, बेझिझक निकलने वाली धूल इस शहर को खा रही है.  धूल को रोकने की लाख कोशिशें
नियमानुसार की गई-साम, दाम, दंड व भेद सब तरीके अपनाये गये लेकिन धूल उड़ाने का सिलसिला जारी है.प्रशासन और सरकार दोनों की अस्थाई,अनियमित कार्यवाहियों के चलते इन उद्योगों के हौसले बढ़ते ही चले गये और यह अब यह एक कैंसर का रूप ले बैठा है. इन उद्योंगों को जनता को परेशान व त्रस्त कर देने का लायसेंस मिल चुका है.कोई कार्रवाही इनपर असर नहीं कर रही सब  बेपरवाह और निडर होकर अपनी तिजोरी भर रहे हैं. इसका नतीजा यह निकल रहा है कि उद्योंगों के आसपास रहने वालों के लिये यह धुंआ मुसीबत बना हुआ है. रात में धूल की मात्रा ज्यादा होती है जो मनुष्य की नाक में से शरीर में धुस रही है. पूरें शहर को धूूल ने अपने ग्रिप में ले रखा है. घरों की छत तो काली धूल से सन चुकी है. बाहर आंगन में किसी की गाड़ी खड़ी हो तो वह भी इस केमिकल युक्त धूल की चपेट में आकर बर्बाद हो रही है. सरकार का प्रदूषण विभाग क्या कार्रवाही इन उद्योंगों के खिलाफ करता है इसका अंदाज इसी से लगता है कि यह पूरे शहर को काली धूल से रंगने में कोई कसर नहीं छोड़ते. इससे यह सवाल भी उठता है कि क्या ऐसे हालात में रायपुर  कभी स्वस्थ साफ सुथरा  हो पाएगा? शहर के भीतर व बाहर सारी जगह काली धूल का साम्राज्य  है. जब रायपुर का सर्वेक्षण करने वाले आते हैं तो उनके होटलों में तक काली धूल का साम्राज्य उन्हें दिखाई देता है. वे इसके बाद कैसी रिपोर्ट देते होंगे इसकी कल्पना की जा सकती है. रायपुर शहर आज की स्थिति में काली ,भूरी धूल, गंदगी, मच्छर का पर्याय बना हुआ है. जिन काली धूल उगलती फैक्ट्रियों को पिछले सालों के दौरान प्रदूषण नियंत्रण करने की मशीनें लगाने की जिम्मेदारी दी गई थी उनमें से कितनों ने इस आदेश का पालन किया यह तक देखने वाला इस शहर में कोई नहीं है. सरकार के निर्देशों की खिल्ली उड़ाते हुए जनता को तंग कर अपनी तिजोरी भरने वालों ने सरकार के विकास और स्वच्छता के अभियान का तो जहां मटियामेट किया है वहीं जनता को कई किस्म की बीमारियंा भी बिना मांगे दे दी है. इन उद्योगों पर नियंत्रण करने की जिम्मेदारी जिन लोगों पर भी है वे वास्तव में अपने आप कर्तव्य से भी विमुख है. रासायनिक काले धूल की चिमनियों से छोड़ते धुएं राजधानी के हर उस अधिकारी व कर्र्तव्यस्त अधिकारी को दिखाई दे रहा है जो यहां रहता है किन्तु इसपर लगाम लगवाने में क्यों पीछे हटते हैं यह वास्तव में अगली पीढी के लिये शोध का विषय बनकर खड़ा है.मंदिर हसौद में भी एक ऐसी ही फैक्ट्री थी जिसमें भी भारी मात्रा में काली धूल निकलती थी .उस फैक्ट्री को आसपास के लोग  काला राक्षस कहते थे. इसके धूल से आसपास के गांवों की पूरी फसल काली हो गई थी यहां तक कि पैदा होने वाले बच्चे तक काले पैदा होने लगे थे. क्या रायपुर का प्रशासन यही चाहता है कि मंदिर हसौद के उस फैक्ट्री के धूल की तरह का असर रायपुर और उसके आसपास रहने वालों के साथ भी हो. अफसरशाही के निकम्मेपन का ही परिणाम है कि आज राजधानी में अगर कोई अपने नंगे पैर धरती पर पांव रखे तो उसपर कालिख पुत जाती है और कोई हाथ लगाये तो मुुंह काला हो जाता है.हम आज शहर का जितना भी विकास कर ले लेकिन अगर इस काली धूल को उडाने वालों पर शिकंजा नहीं कसा गया तो यह सारा विकास व्यर्थ हो जायेगा.हमने अच्छी-अच्छी योजनाएं शुरू की है अच्छे अच्छे बड़े-बड़े भवनों का निर्माण किया है .किन्तु यह सब देखते देखते ही कालिख से पुत जाती है. सवेरे घूमने निकलने वालों को पार्कों की बैंच पर कालिख पुत रही है.जो वृक्ष लग रहे हैं वह धूल का परवान चढऩे से बढ नहीं रहे.  भविष्य में रायपुर शहर में रासायनिक बारिश होने लगे तो भी आश्चर्य नहीं. सरकार को चाहिए कि वह इन उद्योगों के खिलाफ तत्काल कार्यवाही करें ताकि भविष्य में होने वाले खतरों को रोका जा सके.                                                       



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …

किस्मत बदलती है,दाना अब खुशहाल लेकिन...!

मनुष्य जीवन के बारे में बहुत सी बाते कहीं गई हैं-कहा जाता है कि इंसान पैदा होते ही अपने कर्मो का सारा फल अपने साथ लेकर आता है. यह भी कहा जाता है कि जिसके किस्मत में जो हैं उसे मिलकर ही रहेगा. यह भी कहा गया है कि मनुष्य को अपने कर्मो का फल भी इसी जन्म में भोगना पड़ता है.हम जब ऐसी बातों को  सुनते हैं तो लगता है कि कोई हमें उपदेश दे रहा है या फिर ज्ञान बांट रहा है, किन्तु जब हम इसे अपने जीवन में ही अपनी आंखों से देखते व सुनते हैं तो आश्चर्य तो होता ही है कि वास्तव में कुछ तो है जो सबकुछ देखता सुनता और निर्णय लेता है. यह बाते हम उस व्यक्ति के बारे में कह रहे हैं जिसने पिछले साल पैसे न होने के चलते अपनी पत्नी की लाश को 10 किलोमीटर तक पैदल अपने कंधे पर ढोने के बाद अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में प्रमुख स्थान प्राप्त किया था. ओडिशा के गरीब आदिवासी दाना मांझी की जिंदगी साल भर में अब पूरी तरह बदल चुकी है. उसकी गरीबी अब उसका पीछा छोड़ चुकी है.इसी सप्ताह मंगलवार पांच तारीख को मांझी कालाहांडी जिले के भवानीपटना से अपने घर तक उस होन्डा  बाइक पर सफर करता हुआ पहुंचा ,जिसे उसने शो रुम से 65 हजार रुपये मे…