सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एक देश,एक चुनाव: अब इसमें देरी किस बात की!


एक देश,एक चुनाव: अब इसमें देरी किस बात की!

पहले प्रधानमंत्री बोले, फिर राष्ट्रपति ने मोहर लगा दी, अब  बीजेपी भी कह रही है कि एक देश एक चुनाव में हमें भी कोई आपत्ति नहीं..तो फिर देरी किस बात की- देश में पांच साल मे सिर्फ एक ही बार चुनाव होना चाहिये-बार बार के चुनाव से जनता ऊब चुकी है-चुनावी खर्च भी बहुत बढ रहा है. प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति दोनों की चिंता इस विषय में स्वाभाविक है. आखिर चुनाव के लिये पैसा भी तो जनता की जेब से निकलकर ही लगता है. देश में बढ़ती हुई मंहगाई की जड़ में भी बार बार होने वाले चुनाव है.आजादी के शुरूआती दौर में सब ठीक चल रहा था लेकिन आगे आने वाले समय में यह व्यवस्था गडबडाती चली गई. देश में 26 अक्टूबर 1962 को पहली इमरजेंसी का ऐलान उस समय हुआ जब चीन ने भारत पर हमला किया इसके बाद 3 दिसंबर 1971 को भी इमरजेंसी का ऐलान हुआ जब पाकिस्तान के साथ तीसरा युद्ध हुआ तीसरी और आखिरी बार 25 जून 1975 की रात में इमरजेंसी का ऐलान हुआ और वजह बताई गई देश के अंदरूनी हालात का बेकाबू होना. तीसरी और आखिरी इमरजेंसी करीब दो साल तक लगी, इस दौरान सारे चुनाव और अन्य कई किस्म की गतिविधियों पर लगाम लग गई. इमरजेंसी हटने के बाद शायद फिर कभी चुनाव व्यवस्था पटरी पर नहीं आई.अब इसे पटरी पर लाने का प्रयास तेज हो सकता है चूंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 19 मार्च को पार्टी पदाधिकारियों की बैठक में कहा था कि देशभर में स्थानीय निकाय और राज्य चुनाव वस्तुत: हर साल होते हैं, जिससे कल्याणकारी योजनाओं के क्रियान्वयन में रुकावट आती है. प्रधानमंत्री सभी चुनाव पांच साल में एक बार कराने को लेकर उत्सुक दिखे, वे यह चाहते हैं कि पंचायत से लेकर संसद तक के सभी चुनाव एक साथ होने चाहिए. वैसे सभी चुनावों को एकसाथ कराने का विचार बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी बहुत समय पहले व्यक्त कर चुके थे तथा कई संसदीय समितियों और विधि आयोग ने इस विचार के पक्ष में राय दी है. बीजेपी के सत्तारूढ़ होने के बाद बजट सत्र से पहले हुई सर्वदलीय बैठक में सरकार की ओर से इस विचार को अनौपचारिक तौर पर रखा, जिसको कुछ बड़ी पार्टियों ने समर्थन दिया. अब यह मामला उस समय पुन: एक नई आशा के साथ जागा है जब राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने सोमवार को शिक्षक दिवस के मौके पर सरकारी स्कूल में एक विशेष क्लास लेने के दौरान लोकसभा के साथ-साथ राज्यों के विधानसभा चुनावों की वकालत की-इस बयान के तुरंत बाद रायपुर में भाजपा के महासचिव अनिल जैन ने पत्रकारों को यह बताकर कि भाजपा पहले से ही इस विचार का समर्थन करती है ने अब विश£ेषको के लिये यह विषय विचार करने के लिये दे दिया है कि आगे आने वाले समय में इस बिगडी व्यवस्था को किस तरह से सरकार और चुनाव आयोग मिलकर पटरी पर लायेगी़? पटरी पर लाने के लिये एक विकल्प एक बार फिर इमरजेेंसी भी हो सकती है. 1975 में इंदिरा गांधी की कांग्रेस के पास दोनों सदनों में बहुमत था. लोकसभा में कांग्रेस के 523 में से 363 सदस्य थे और राज्यसभा में उसके सांसदों की संख्या कहीं ज्यादा थी, आज भले ही बीजेपी के पास लोकसभा में 543 में से 281 सदस्य हों लेकिन राज्यसभा में उसके पास 245 में से सिर्फ 46 सदस्य ही हैं, ऐसे में अगर सरकार चाहे भी तो इमरजेंसी नहीं लगा सकती.अनुच्छेद 352 में कहीं ज्यादा सेफगार्ड्स यानी सुरक्षात्मक प्रावधान हैं. राष्ट्र्रपति बिना पूरी कैबिनेट की सिफारिश के इमरजेंसी लागू नहीं कर सकते और इस सिफारिश पर भी संसद के दोनों सदनों की कुल सदस्यों की संख्या के आधे या उपस्थित सदस्यों के दो तिहाई बहुमत की जरूरत होगीऔर अगर ये सिफारिश दोनों सदनों से एक महीने के अंदर पारित नहीं हुई तो इसे असंवैधानिक मान लिया जाएगा.इसके अलावा राज्य पहले से कहीं ज्यादा मजबूत हैं. इंदिरा गांधी के समय ओडिशा, तमिलनाडु, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर और  गोवा को छोड़कर सभी राज्यों में कांग्रेस की सरकार थी लेकिन आज की सत्तारूढ़ बीजेपी मुश्किल से महज 13 राज्यों में राज करती है, इनमें से भी कुछ राज्यों में उसकी दूसरे दलों के साथ सरकार है मजबूत राज्य का मतलब पुलिस और प्रशासन पर उसकी पकड़ जो इमरजेंसी जैसे हालात में काफी अहम होती है इतना ही नहीं आज राज्य पहले से कहीं ज्यादा स्वायत्त और आर्थिक तौर पर आजाद हैं, साथ ही करीब-करीब हर राज्य में एक या दो मजबूत क्षेत्रीय राजनीतिक दल भी मौजूद हैं.दूसरी ओर हम न्यायपालिका की बात करें तो 1975 की इमरजेंसी में सुप्रीम कोर्ट करीब-करीब खामोश रहा था, लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट कहीं ज्यादा मुखर और सक्रिय है.स ुप्रीम कोर्ट आज न सिर्फ सरकार विरोधी बल्कि जजों की नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिकाओं की भी सुनवाई करता है ऐसे में सरकार को चाहते हुए भी सर्वदलीय व राज्यों के समर्थन के बगैर 'एक देश एक चुनावÓ की व्यवस्था को लागू कराने में चुनौती का सामना करना पड़ेगा.












इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …