संदेश

August, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ं शिक्षा के मंदिर में बड़े पुजारी की तानाशाही...क्यों सिस्टम फैल है यहां?

आखिर सरकार को डिब्बा बंद सामान की याद तो आई!

इतना पैसा रखकर भी हम अपने खिलाडियों को क्यों नहीं सवार पाते?

मंहगाई के दौर में नई आशाओं के साथ आये उर्जित पटेल!

जनता के बीच के लोग...लेकिन जनता से कई आगे!

ओलंपिक खेलों में हमारी शर्मनाक स्थिति..साई कितना सही?

सरकारी कामों में पब्लिक दखल,क्या कर्मचारी सुरक्षित हैं?

...दुष्कर्मियों की कब तक होती रहेगी खातिरदारी?