सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

यौन हिंसा पर क्षमा की घृणित संस्कृति, क्यों इसे संरक्षण दिया जा रहा?




यूनिसेफ की  एक शीर्ष अधिकारी ने महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा से जुड़ी क्षमा की घृणित संस्कृति पर चिंता व्यक्त करते हुए उसकी निंदा की है और इस क्रूरता को खत्म करने के लिए तत्काल कार्रवाई करने को कहा है हालाकि उन्होंने सिर्फ एक राज्य की दलित युवती के साथ उन्हीं पांच युवको द्वारा दोबारा कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार मामले का जिक्र किया है जो रोहतक में चर्चित हुआ  लेकिन भारत में अब ऐसा आम हो गया है जिसपर कठोर कदम उठाने की बजाय राजनीतिक रोटी सेकी जा रही है और क्षमादान दिया जा रहा है.मामले को कोर्ट के हवाले कर तुरन्त फुरंत में उसका निपटारा करने की जगह राजनीति से जुड़े कतिपय लोग ऐसी घटनाओं को अपने  मकसद तक पहुंचने की नीयत से देखने लगे हैं. यूएन अधिकारी ने जिस मामले का  जिक्र किया है वह  तीन साल पहले के उस बलात्कार का है जिसमें दलित लड़की से पांच युवकों ने दुष्कृत्य किया और जमानत पर छूटकर आने के बाद दुबारा उसका अपहरण कर रेप किया. इस मामले में अभी जांच चल रही है और पुलिस अब यह भी कह रही है कि लड़की के आरोप की सत्यता को परखा जा रहा है चूंकि युवती द्वारा बताये गये लोकेशन में गडगड़ी हैै बहरहाल हम भी मानते हैं कि बच्चियों और महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा से जुड़ी माफी की घृणित संस्कृति को समाप्त किया जाना चाहिये तथा ऐसे क्रूर मामलों में तो किसी प्रकार की राहत अपराधी को मिलनी ही नहीं चाहिये. रोहतक गैंगरेप का मामला हो या महाराष्ट्र के कल्याण,ठाणे अथवा केरल का सिर्फ गुस्सा काफी नहीं, ऐसे मामलों को समाज को बांटकर देखने की जगह मानवता के नाते महिलाओं पर होने वाला अत्याचार स्वीकार करना चाहिये. जिस क्रूरता से घटानाएं राज्यो में घटित हो रही है वह सरकार चलाने वालों को सोचने के लिये मजबूर करती है कि क्या मौजूद व हाल ही बनाया गया कानून  ऐसे मामलों के लिये काफी हैॅ.? दिल्ली के  क्रूररतम निर्भया कांड में फांसी की सजा मिलने के बाद भी अपराधी जेल में रहकर ऐशोआराम की सुविधा की मांग कर रहे हैं वहीं ऐसी घटनाओं से प्रेरणा लेकर महाराष्ट्र और अज्य राज्यों में अपराधी एक के बाद एक ऐसा दुष्कर्म कर रहे हैं जो संपूर्ण मानवता को ही हिलाकर रख  रहे हैं. हम यहां उस दुष्कर्म की बात करेंगेे जो अहमतनगर के कर्जत तहसील की छात्रा के साथ हुआ.मामला ज्यादा पुराना नहीं इसी महीने की 13 जुलाई का है जब नौंवी में पढऩे वाली छात्रा अपने घर से थोड़ी दूर शाम को अपने दादा के घर मसाला लेने गई थी, जब बहुत देर बाद भी वो नहीं लौटी तब परिजनों ने उसे ढूंढना शुरू किया, घर से थोड़ी ही दूर पर एक पेड़ के नीचे उसकी बुरी तरह क्षत-विक्षत लाश मिली.एक आरोपी लड़की के परिजनों को देखते ही भाग खड़ा हुआ याने इस घटना को प्र्रत्यक्ष देखने वाले लोग भी हैं.बाकी तीन आरोपी इस आरोपी के बताये जाने से पकड़ लिये गये.पीडि़तों को ज्याय मिलने की जगह यहां खूब राजनीति चली और पुलिस कार्रवाही पर भी आक्षेप लगे. कानून को अपना काम करने देने की जगह क्यों राजनीति बिखेरी जाती है.?इस मामले में चूंकि सारा मामला एक तरह से लोगों के सामने हुआ इसमे सजा भी मजिस्ट्रेट के सामने पेश कर उसी तत्काल दी जानी चाहिये थी. ऐसे मामलों में तो कानून ऐसा होना चाहिये कि किसी प्रकार की अपील होने की गुंजाइश ही न रहे. दुनियाभर की 12 करोड़ लड़कियों में से हर 10 में से एक लड़की यौन हिंसा का सामना करती है और इनमें से अधिकतर लड़कियों के साथ 15 से 19 साल की उम्र के बीच ऐसा होता है. इस क्रूरता को खत्म करने के लिए और हिंसा के पीडि़तों को न्याय एवं सुरक्षा देने के लिए कठोरतम कार्रवाई की जरूरत है. यह एक क्राइम है और क्राइम का सियासत और जातिगत समीकरण को दखल देने की  क्या जरूरत?.केरल में एक नाबालिग दलित लड़की से लगभग एक दर्जन लोगों नेदो महीने तक रेप किया मुख्य आरोपी ऑटो ड्राइवर ने अपने एक दोस्त के साथ  बारी-बारी से रेप किया और सेलफोन पर रिकॉर्डिंग कर ली.लड़की को वीडियो दिखाया और धमकाया कि किसी को बताने पर वीडियो सोशल मीडिया पर डाल दिया जाएगा लड़की से कई लोगों ने कम से कम 10 बार रेप किया.उसके प्राइवेट प्रार्टस में सिगरेट से जलाने के निशान भी दिखे. केरल में ही  30 साल की एक अन्य दलित छात्रा से कथित बलात्कार और उसकी हत्या का मामला बुधवार को संसद में भी उठा.समाज बताये ऐसे दुष्टों को क्या सजा दें?






इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …