रविवार, 12 जून 2016

कांग्रेस को सोमवार शुभ नहीं रहा...साथी बिखर गये!



एक दिन में चार झटके से कांग्रेस पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों में हार के बाद अब पार्टी में नेताओं की बगावत आम हो चली है। साथ ही कई दिग्गज नेता पार्टी का दामन छोड़ रहे हैं। महाराष्ट्र्र छत्तीसगढ़, त्रिपुरा और यूपी  से एक ही दिन कांग्रेस के लिए  बुरी खबर आई.पांच राज्यों की विधानसभा में पराजय के बाद अब पार्टी नेताओं ने बगावत का झंडा थाम लिया है.दिग्गज नेताओं के पार्टी  छोडऩे से पार्टी के अंदर मायूसी है लेकिन बाहर इसे दिखाया नहीं जा रहा. पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता गुरुदास कामत ने सोमवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया लेकिन कल राहुल गांधी ने उन्हें दिल्ली आने का निमंत्रण देकर उनके मामले को हल्का करने का प्रयास किया है. वास्तविकता यही है कि लोकसभा चुनावों में सत्ता गंवाने के बाद  संकट से जूझ रही कांग्रेस के लिए मुश्किलें बड़े तूफान की तरह आई हैं. सोमवार को कांग्रेस के लिए चार बुरी खबरें आईं. पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता गुरुदास कामत ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया और राजनीति से सन्यास लेने का एलान भी कर दिया. कामत महाराष्ट्र से आते हैं और अगले साल मुंबई में निकाय चुनावों से पहले कांग्रेस के लिए यह बड़ा झटका था. कामत को गांधी परिवार का विश्वस्त माना जाता है, उनका इस्तीफा राजनीतिक गलियारों में हैरानी भरा रहा. पार्टी कार्यकर्ताओं को भेजे संदेश में कामत कहते हैं कि कई महीनों से मैंने महसूस किया कि मुझे नए लोगों को आगे आने के लिए पीछे हट जाना चाहिए.क्या कामथ के कांग्रेस छोडऩे  या सन्यास लेने के  पीछे वास्तव में यही कारण है?हकीकत यह है कि मुंबई इकाई से साइडलाइन किए जाने के चलते वे नाराज थे. पार्टी में सुधार के लिए उनकी ओर से दिए गए सुझावों की अनदेखी की गई. राहुल गांधी की मुंबई कांग्रेस प्रमुख संजय निरूपम से नजदीकियों ने कामत को सबसे ज्यादा दुख पहुंचाया. यह भी कहा जा रहा है कि वे राज्य सभा के लिए महाराष्ट्र से उम्मीदवारों के चयन से भी नाखुश थे. इधर, छत्तीसगढ़ में लगभग 12 साल से सिंहासन से बाहर विपक्ष  में बैठी कांग्रेस सोमवार के ही दिन एक और झटका खा गई. वरिष्ठ नेता और पूर्व सीएम अजित जोगी ने अपनी नई पार्टी बना ली अपने पैतृक गांव मरवाही में जोगी ने इस बात का एलान किया. इस दौरान उनके बेटे अमित जोगी, पत्नी रेणु और कई कांग्रेस नेता मौजूद थे हालांकि पार्टी का नाम अभी तय नहीं हुआ है.इस दौरान जोगी ने एक महत्वपूर्ण बात यह कही कि अब राज्य के निर्णय दिल्ली से नहीं होंगे। उत्तर पूर्व में असम में सत्ता गंवाने के बाद अब त्रिपुरा में भी कांग्रेस के लिए मुश्किलें खड़ी हो गई है पश्चिम बंगाल में वाममोर्चे के साथ गठबंधन के मुद्दे पर वरिष्ठ नेता और विधायक जितेन सरकार ने पार्टी छोड दी. उन्होंने स्पीकर को इस्तीफा सौंप दिया बता दें कि बंगाल में लेफ्ट से गठबंधन के चलते त्रिपुरा में कई और कांग्रेस नेता भी नाराज हैं इस कड़ी में लेटेस्ट खबर यही  है कि दस विधायक कांग्रेस छोड तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गये हैं. कांग्रेस का अब तक राज्य सभा में जोर था लेकन चुनाव के बाद राज्यसभा में भी यह संख्या घट जाएगी.उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले चुनाव कांग्रेस के लिए करो या मरो जैसी  हैं.  पार्टी ने यहां जीत हासिल करने के लिए तैयारियां शुरू कर दी है। लेकिन कार्यकर्ता एकजुट नहीं दिख रहे हैं प्रशांत कुमार को यहां राहुल  गांधी  ने कांग्र्रेस को  जिताने का जिम्मा सौंपा हैं इसको लेकर कांग्रेसियों का एक बड़ा वर्ग नाराज चन रहा है. यहां पर प्रियंका गांधी को पार्टी में लाने की मांग लंबे समय से चल रही है, अब अल्पसंख्यक मोर्चे ने प्रस्ताव पारित किया है कि राहुल गांधी को पार्टी का अध्यक्ष बनाया जाए इसमें कहा गया कि यह काम जल्द से जल्द पूरा हो ताकि लोगों के दिमाग में भ्रम ना रहे। इसी बीच पार्टी की राज्य इकाई ने खुद को इस प्रस्ताव से दूर कर लिया है.कांग्रेस को अपना ढांचा फिर से तैयार  करने की जरूरत है. पुरानी सोच  में जहां  बदलाव लाना होग वहीं पार्टी में अनुशासन हीनता और गुटबाजी पर लगाम देनी होगी. नये लोगों को लाना होगा ऐसा व्यक्ति जो कांग्रेस को फिर से खड़ा कर सकें वरना आगे स्थिति और बिगड़ सकती है.