सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बिजली कंपनी ने गर्मी में परेशान किया अब बारिश में भी....कहां गये दावे!


छत्तीसगढ़ राज्य विद्युत कंपनी ने गर्मी के दौरान छत्तीसगढ़वासियों को मेंटनेंस के नाम पर बिजली सप्लाई बंदकर भारी यातना दी थी तथा दावा किया था कि वे ऐसा प्रबंध कर रहे हैं कि लोगों को मानसून के दौरान कोई तकलीफ न हो लेकिन मानसून अभी पूरी तरह से छाया भी नहीं कि कंपनी के सारे दावे खोखले साबित होने लगे.कंपनी ने दावा किया था कि बारिश के दौरान बिजली गुल होने पर विभाग ने कर्मचारियों को अलर्ट रहने व सुधार करने दौड़ पडऩे का निर्देश दिया है लेकिन यह सारी बाते खोखली साबित हुई है. पूरे छत्तीसगढ़ से जो खबरे मिल रही है वह यही दर्शा रही  है कि थोड़़ी से बारिश होते ही बिजली गुल हो जाती है तथा कई कई घंटे तक बिजली के  वापस आने का लोग इंतजार करते हैं.भीषण गर्मी के दौरान विद्युत कंपनी ने बकायदा अखबारों में विज्ञापन जारी कर व एसएमएस के जरिये बिजली कई घंटों तक बंद रखने की सूचना दी थी. यह बंद इसलिये किया गया चूंकि बारिश आने पर लोगों को तकलीफ न हो.इस दौरान लाइन और ट्रांसफार्मर का रखरखाव तथा मरम्मत का काम कथित तौर पर किया गया.  दावा है कि  विभागीय कर्मचारी तीन शिफ्ट में काम करते हैं, लेकिन तेज आंधी और बारिश के दिनों में स्थिति से निपटने के लिए सभी कर्मचारियों को एक ही शिफ्ट में काम करने को कहा गया मगर यह व्यवस्था है भी कि नहीं यह लोग आसानी से समझ नहीं पा रहे हैं चूंकि उन्हें बिजली  गुल होने के बाद भी इस विभाग से सही रिस्पाँस नहीं मिल रहा .शहरी क्षेत्र के अलावा ग्रामीण अंचलों में भी ट्रांसफार्मर्स को  दुरस्त करने के नाम पर कई घंटे बिजली गुल रखकर लोगों को परेशान किया गया था.अभी बारिश की शुरूआत हैै किन्तु उपभोक्ताओं की शिकायतों के ढेर से ऐसा लगता है कि पूरा मानसून आते आते बिजली विभाग घुटने टेक देगा. कर्मचारियों की कमी को पूरा करने की दिशा में कदम न उठाना भी इस अव्यवस्था के पीछे एक कारण बताया जा रहा है. कंपनी के जो कॉल सेंटर काम कर रहे हैं उसकी हकीकत यही है कि यहां फोन नहीं उठाया जाता.इस वजह से बिजली उपभोक्ता इससे खासे परेशान हैं. कंपनी दावा करती है कि  सभी कॉल सेंटर के कर्मचारियों को निर्देशित किया गया है कि उपभोक्ताओं के फोन उठायें और बिजली गुल होने की सूचना, फील्ड में काम करने वाली टीम को तत्काल दे लेकिन काल सेंटर या किसी अधिकारी से बात नहीं हो पाती.फोन का हमेशा एंगेज टोन में मिलना आम बात है. विद्युत कंपनी ने इस वर्ष अपे्रल से बिजली की  दरों में अनाप शनाप वृद्वि की थी यह कहते हुए कि दूसरे राज्यों के मुकाबले यहां बिजली सस्ती है लेकिन सुविधाएं अपने उपभोक्ता को कैसे दे रही है वह गर्मी के मौसम में तड़पते लोग ही बयां कर सकते हैं. बरसात के दिनों में बादल की एक गर्जना पर बिजली कंपनी की सारी हेकड़ी निकल जाती है. दूसरी ओर सीना तानकर यह दावा करती है कि विद्युत उपलब्धता की दृष्टि से आने वाले 4-5 वर्षों तक विद्युत आधिक्य राज्य छत्तीसगढ़ बना रहेगा इस हेतु छत्तीसगढ़ राज्य शासन सहित विद्युत वितरण कंपनी ने अनेक विद्युत उत्पादकों के साथ दीर्घ अवधि अनुबंध किये हैं। इसके अनुसार आगामी तीन वर्षों में सिलसिलेवार सेन्ट्रल सेक्टर, निजी विद्युत उत्पादक एवं अक्षय ऊर्जा उत्पादन के बूते करीब 3656 मेगावाट की वृद्धि विद्युत उपलब्धता में होगी इसके बावजूद क्यों ऐसी स्थिति बन रही है?  देश के सबसे गरीब राज्य छत्तीसगढ़ में सस्ती बिजली के दावों  में कितनी सत्यता है यह दूसरे गरीब राज्यों से तुलना करने पर लगाया जा सकता है. .पूरे देश की तुलना करने पर छत्तीसगढ़ में बिजली की दर सबसेे ज्यादा निकलती है क्योंकि छत्तीसगढ़ में प्रति व्यक्ति औसत आय देश में दूसरे नंबर पर सबसे कम है.बिजली की लगातार उपलब्धता के लालच में लोगों ने विद्युत कंपनियों की बहुत सी खामियों को नजर अंदाज कर दिया लेकिन जब विद्युत सेवा बुरी हालत में पहुंच रही है तो उनका आक्रोश कं पनी के रखरखाव की तो पोल खोल ही रहा है साथ ही अब बिजली दरों में बारह प्रतिशत के इजाफे पर भी सवाल उठाया जाने लगा है. घरेलू बिजली की दरों में अधिकतम 13 प्रतिशत तथा कृषि पम्पों की बिजली दरों में 20 प्रतिशत का इजाफा हुआ है. छत्तीसगढ़ को  देश का  प्रथम जीरो पॉवर कट स्टेट माना जाता है लेकिन यहां रखरखाव व  मौसमी  मार से होने  वाली कटौती को इस आंकडों से दूर रखा गया है. जिस हिसाब से रखरखाव व मौसमी मार पर कटौती की जाती है उसे जोड़कर देखा जाय तो छत्तीसगढ़ में विद्युत कटौती  सबसे ज्यादा है. छत्तीसगढ़ की अधिकतम विद्युम मांग 4000 मेगावाट तक पहुंच रही है, जबकि विभिन्न स्त्रोतों से प्राप्त विद्युत की उपलब्धता प्रदेश में 4612 मेगावाट है.





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …