सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अत्याचारों पर यह चुप्पी कैसी? क्यों रिएक्ट करना छोड़ दिया लोगों ने!






 हममें असंवैधनहीनता कितनी घर कर गइ्र्र है हम किसी खास घटना पर रिएक्ट ही नहीं करते, मूक दर्शक बने सब देखते हैं और मूक ही बने रहते हैं.वास्तविकता यही है कि हमारे आसपास कोई भी बड़ी से बड़ी घटनाहो जाये, हम ऐसा शो करते हैं कि हमने कुछ न देखा ,न सुना-हां- बनते जरूर हैं कि अरें! हमें तो पता ही नहीं चला.फिल्मों ने इस मामले में जरूर जारूकता दिखाई है,कई फिल्मे ऐसी घटनाओं पर बनी है लेकिन समाज अब तक ऐसी घटनाओं पर रिएक्ट करने लायक नहीं हो पाया, चाहे वह सड़क पर कोई व्यक्ति किसी के वार से कराह रहा हो या किसी  महिला के साथ सरे आम छेड़छाड़ की जा रही हो या कोई किसी को लूटकर भाग रहा हो-अथवा कोई ट्रेन में किसी असहाय के साथ दुव्र्यवहार कर रहा हो-हम इतना साहस भी नहीं कर पाते कि ऐसे विरोधी ताकतो का मुकाबला करें.हमारे समाज व कानून ने मनुष्य को कुछ ऐसा बना दिया कि वह चाहते हुए भी किसी प्रकार का एक्शन नहीं ले पाता. यू पी, बिहार हो या देश का अन्य कोई भी भाग, इस प्रकार की निष्क्रियता  से समाज भरा पड़ा है. लोगों में इतनी हिम्मत भी नहीं रह जाती कि अपने या अपने सगे संबन्धी पर हुए अन्याय का प्रतिरोध कर सकें. आपको याद होगा बिहार में जिस बच्चेे को एक बाहुबली के बेटे ने सरे आम गोली मार दी थी उसके पिता की प्रतिक्रिया थी कि -हमें मालूम है आगे क्या होगा-कुछ दिन वह जेल में आराम  से रहेंगे फिर छूटकर आ जायेगें.पीडि़त  घटना के बाद अगर किसी के खिलाफ बयान देता है तो वह अपनी सुरक्षा के प्रति भी चिंतित हो जाता है जब निर्णय देने वाले जज तक की जिंदगी ऐसे मामलों में खतरे में पड़ रही हो तो आम आदमी के बारे में सोचा जा सकता है कि वह किस हालात में मुकदमों को फेस करता होगा. सामने वाला जब छूटकर आयेगा तो उससे बदला लेगा.यह भावना हर परिवार में भर जाती है. ऐसी संभावनाओं के कारण हर  मदद करने का इच्छूुक यह सोचते हुए पीछे हट जाता हैे कि कौन इस लफड़े में पड़े? पूरे देश में इस प्रकार की प्रवृत्ति तेजी से बढ़ती जा रही है, इसी का परिणाम है कि पडौस में भी कोई सहायता के लिये पुकारे तो भी लोग वहां पहुंचकर किसी पचड़े में पडने से बचने की कोशिश करते हैं लेकिन अगर कानून सख्त होता और प्रत्यक्ष गवाह को संरक्षण मिलता तो संभव है कि कई समस्याओं का हल मिल जाता. आज स्थिति यह है कि किसी का दु:ख सुनकर खुद दुखी हो जाते हैं, कभी डंडा और झंडा लेकर प्रदर्शन करने के लिए भी खड़े हो जाते हैं,अपने आपको दिखाने की कोशिश भी करते हैं कि हम सब एक सभ्य समाज का हिस्सा हैं, लेकिन असलियत में जब ऐसी घटना हमारे आसपास होती है तो शायद हम आगे आकर उसे रोकने की कोशिश नहीं करते उस वक्त पीडि़त का दु:ख हमको दिखाई नहीं देता है। केरल के एर्नाकुलम जिले के पेरूम्बवूर में एक कानून की विद्यार्थी की हत्या हो गई, एक छात्रा जो आगे जाकर वकील बनना चाहती थी, अपनी मां के सपनों को साकार करना चाहती थी  लेकिन उसका सपना पूरा नहीं हो पाया-चीखती रही  चिल्लाती रही पडौसियों ने सुना भी लेकिन कोई मदद के लिये नहीं पहुंचा अंतत: क्रूरता की बलि चढ़ गई.पुलिस कुछ समय के बाद वहां पहुंचती है लेकिन अपने मोबाइल की लाइट से घटनास्थल की रिकॉर्डिंग करके ले जाती है-जरा सोचिए अगर यह घटना किसी प्रभावशाली व्यक्ति के साथ होती तो क्या पुलिस इस तरह का व्यवहार करती? शायद नहीं। एक तरफ जहां समाज, प्रशासन का यह रवैया है तो वहीं पुलिस और डाक्टर भी ऐसा कुछ कर डालते हैं जो इन दो पेशों पर से लोगों का विश्वास उठा देता है.असामाजिक तत्वों के व्यवहार पर पुलिस कम्पलेंट के बावजूद पुलिस का किसी  प्रकार कोई एक्शन न लेना जहां व्यवस्था के प्रति लोगों का विश्वास उठाता है वहीं चिकित्सकों की लापरवाही भी दबंगों  से इन दोनों मेहकमों की साठ गांठ की पोल खोलता है. केरल के इस निम्र्रम हत्याकांड में पोस्ट मार्टम किसी बड़े डाक्टर द्वारा करे जाने की जगह पोस्ट ग्रेजुएट छात्र से कराया गया.प्राय:हर मामले को राजनीतिक नजरिये से देखने का असर यह हो रहा है कि लोगों का विश्वास अब पुलिस और कानून पर से उठने लगा है. किसी बड़े के लिये कोई कानून और छोटे के लिये दूसरा कानून.





इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

किस्मत बदलती है,दाना अब खुशहाल लेकिन...!

मनुष्य जीवन के बारे में बहुत सी बाते कहीं गई हैं-कहा जाता है कि इंसान पैदा होते ही अपने कर्मो का सारा फल अपने साथ लेकर आता है. यह भी कहा जाता है कि जिसके किस्मत में जो हैं उसे मिलकर ही रहेगा. यह भी कहा गया है कि मनुष्य को अपने कर्मो का फल भी इसी जन्म में भोगना पड़ता है.हम जब ऐसी बातों को  सुनते हैं तो लगता है कि कोई हमें उपदेश दे रहा है या फिर ज्ञान बांट रहा है, किन्तु जब हम इसे अपने जीवन में ही अपनी आंखों से देखते व सुनते हैं तो आश्चर्य तो होता ही है कि वास्तव में कुछ तो है जो सबकुछ देखता सुनता और निर्णय लेता है. यह बाते हम उस व्यक्ति के बारे में कह रहे हैं जिसने पिछले साल पैसे न होने के चलते अपनी पत्नी की लाश को 10 किलोमीटर तक पैदल अपने कंधे पर ढोने के बाद अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में प्रमुख स्थान प्राप्त किया था. ओडिशा के गरीब आदिवासी दाना मांझी की जिंदगी साल भर में अब पूरी तरह बदल चुकी है. उसकी गरीबी अब उसका पीछा छोड़ चुकी है.इसी सप्ताह मंगलवार पांच तारीख को मांझी कालाहांडी जिले के भवानीपटना से अपने घर तक उस होन्डा  बाइक पर सफर करता हुआ पहुंचा ,जिसे उसने शो रुम से 65 हजार रुपये मे…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …