सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एनआईए की साख पर दाग! निष्पक्ष एजेंसी कौन सी?





मुंबई में २६/११ के आतंकवादी हमलों के बाद तत्कालीन सरकार ने आतंकवादी हमला मामलों की जाँच के लिए राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) बनाई थी, तब यह माना  गया कि यह एजेंसी राजनीतिक दबाव से मुक्त होकर काम करेगी लेकिन शायद ऐसा हुआ नहीं. इस एजेंसी ने जितने मामलों की जाँच अपने हाथ में ली उसमें से ज्यादातर में जाँच इतनी लंबी खिंच गई कि आरोपियों को न केवल राहत मिली बल्की इसके जाल से निकलने का मौका भी मिल गया. २००८ में महाराष्ट्र के मालेगाँव मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को क्लीन चिट ने इसकी पुष्टि कर दी. पहले उसने समझौता ट्रेन बम धमाके के मामले में कर्नल पुरोहित को क्लीन चिट दी और अब साध्वी प्रज्ञा को मालेगाँव बम धमाका मामले में कोई सबूत नहीं होने के चलते क्लीन चिट दे दी. इससे पहले एनआईए ने जब समझौता बम धमाका और हैदराबाद की मक्का मस्जिद में हुए विस्फोट मामले में आरोपी स्वामी असीमानंद को जमानत के खिलाफ अपील नहीं करने की बात कही थी तभी लगने लगा था दकि अगला नंबर प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित का होगा. भगवाधारियों की जब गिरफ्तारी हुई तब यह मामला दुनिया के अखबारों की सुर्खियोंं में था तब आतंकवाद का एक नया स्वरूप दुनिया के सामने आया था, अब क्लीन चिट की खबर ने भी दुनिया को सुॢखयों में रखा है..   साध्वी प्रज्ञा के जेल से बाहर आने के बाद जो माहौल बनेगा निश्चित ही वह हिंदूवादी ताकतों को एक जुट करेगा. देश की प्रतिष्ठित जाँच एजेंसी एनआइए के लिये यह सोचने का विषय है कि सिर्फ गवाहों या चश्मदीदों के बयानों के आधार पर ही मामले को इतना गंभीर क्यों बना दिया जाता है जो बाद में गवाहों के कथित रूप से पलटने के बाद कमजोर हो जाता है- इससे जाँच एजेंसी की छवि भी प्रभावित होती है. एक के बाद एक धमाकों के चलते एनआईए ने  ताबड़तोड़ मामजे दर्ज किये लेकिन आरोपपत्र दायर करने में बहुत ज्यादा समय लगा जिसके चलते मामले के आरोपी राहत पाने में सफल रहे. यह बात भी सामने आ रही है कि  एनआईए की ओर से दूसरे आरोपपत्र में पूर्व के रुख से पलटना निष्पक्षता पर सवाल खड़े करता है. कांग्रेस सरकार के समय सीबीआई को पिंजरे में बंद तोते की उपमा दी गयी थी उसी प्रकार एनआईए के लिए कांग्रेस ने नमो इंवेस्टिगेटिव एजेंसी की उपमा दी है.विपक्ष यह भी आरोप लगा रहा  है कि केंद्र में सरकार बदलने के बाद संघ परिवार की शह पर सरकार ने साध्वी प्रज्ञा और कर्नल पुरोहित को बचाने का काम किया है.जब साध्वी प्रज्ञा को गिरफ्तार किया गया था तब भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से मुलाकात कर अपनी आपत्ति दर्ज कराई थी. कुछ समय पहले एनआईए की एक वकील ने भी एक अधिकारी पर यह आरोप लगाया था कि उसने उन्हें आरोपियों के प्रति नरमी बरतने को कहा था. एनआईए के आरोपपत्र में इस बात का भी उल्लेख है कि इस मामले की जाँच में महाराष्ट्र एटीएस के तत्कालीन प्रमुख हेमंत करकरे ने गड़बड़ की थी और कर्नल पुरोहित के खिलाफ कई आरोप गलत थे.आरोपपत्र में कथित रूप से एनआईए ने इस बात के सबूत होने का दावा किया है कि कर्नल पुरोहित की गिरफ्तारी के समय एटीएस ने ही उनके घर पर आरडीएक्स रखा था. रिपोर्टों के मुताबिक महाराष्ट्र एटीएस के अधिकारियों ने एनआईए के इस दावे का प्रतिक्रिया दी है और कहा है कि यदि एनआईए का कहना सही है तो क्यों उसने कर्नल पुरोहित को क्लीन चिट नहीं दी? यहां यह बता दे कि एटीएस के प्रमुख दिवंगत हेमंत करकरे ही वह पहले शख्स थे जिसने भगवा  आतंकवाद से जुड़े मामले में गिरफ्तारी की थी उस समय विपक्ष में रही भाजपा ने करकरे की निष्पक्षता पर सवाल उठाये थे और कहा था कि वह कांग्रेस के करीब हैं और उसके इशारे पर ही यह कार्रवाई कर रहे हैं. भाजपा के इन आरोपों को तब और भी बल मिला था जब कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने यह दावा किया था कि मुंबई हमले से कुछ घंटे पहले हेमंत करकरे ने उन्हें फोन कर बताया था कि उनको हिंदुत्ववादी ताकतों से खतरा था. कुछ मुस्लिम संगठनों ने अब इस मामले में कानूनी रास्ता अख्तियार करने का निर्णय किया है और संदेह जताया है कि एक वर्ग विशेष से जुड़े लोगों को राहत पहुँचाने का काम किया जा रहा है। इस मामले में संघ परिवार की काफी सधी हुई प्रतिक्रिया आई है जिसने सिर्फ इतना कहा है,हमारे पास कुछ भी नया कहने को नहीं है हमने शुरू में ही कहा था कि मामले में इन लोगों को गलत तरीके से फंसाया गया है और अब हमारी बात सही साबित हुई है।




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

किस्मत बदलती है,दाना अब खुशहाल लेकिन...!

मनुष्य जीवन के बारे में बहुत सी बाते कहीं गई हैं-कहा जाता है कि इंसान पैदा होते ही अपने कर्मो का सारा फल अपने साथ लेकर आता है. यह भी कहा जाता है कि जिसके किस्मत में जो हैं उसे मिलकर ही रहेगा. यह भी कहा गया है कि मनुष्य को अपने कर्मो का फल भी इसी जन्म में भोगना पड़ता है.हम जब ऐसी बातों को  सुनते हैं तो लगता है कि कोई हमें उपदेश दे रहा है या फिर ज्ञान बांट रहा है, किन्तु जब हम इसे अपने जीवन में ही अपनी आंखों से देखते व सुनते हैं तो आश्चर्य तो होता ही है कि वास्तव में कुछ तो है जो सबकुछ देखता सुनता और निर्णय लेता है. यह बाते हम उस व्यक्ति के बारे में कह रहे हैं जिसने पिछले साल पैसे न होने के चलते अपनी पत्नी की लाश को 10 किलोमीटर तक पैदल अपने कंधे पर ढोने के बाद अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में प्रमुख स्थान प्राप्त किया था. ओडिशा के गरीब आदिवासी दाना मांझी की जिंदगी साल भर में अब पूरी तरह बदल चुकी है. उसकी गरीबी अब उसका पीछा छोड़ चुकी है.इसी सप्ताह मंगलवार पांच तारीख को मांझी कालाहांडी जिले के भवानीपटना से अपने घर तक उस होन्डा  बाइक पर सफर करता हुआ पहुंचा ,जिसे उसने शो रुम से 65 हजार रुपये मे…