सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नाबालिग यह कहां जा रहे हैं?...इनका तो पहला कदम ही गलत!




इससे पूर्व कि आपराधिक प्रवृत्ति की और बढ़ते नाबालिगों के बारे में कुछ कहे हम एक किस्सा सुनाते हैं-एक बच्चे के पैदा होने के बाद से लेकर युवा और जवान होते तक उसकी मां ने उसे वह सब कुछ दिया जो वह मांगता था. कई मसलों पर उसके परिवार वाले भी विरोध करते कि इतना लाड़ प्यार न करों  कि वह बिगड़ जाये किन्तु मां कहां अपने लाडले के खिलाफ कुछ सुनने वाली थी. लड़का धीरे धीरे बड़ा हुआ तो उसकी मांग भी बढने  लगी स्कूल जाने की जगह आवारा बच्चों के साथ घूमने लगा.बीड़ी सिगरेट शराब की लत लग गई. मां को यह सब मालूम था फिर भी वह अवाइड करती रही. लड़का जब घर से पैसा नहीं मिलता तो चोरी करने लगा. उसे भी मां ने नहीं  रोका फिर वह लड़ाई झगडे भी करने लगा अच्छा खासा गुण्डा बन गया मां ने फिर भी कुछ नहीं कहा अंतत: उसने एक का खून कर दिया और जेल में ठूस दिया गया,अदालत ने उसे फांसी  की सजा सुना दी.फांसी पर चढ़ाने के पूर्व जब उससे अंतिम इच्छा पूछी तो उसने कहा कि मैं एक बार अपनी मां से मिलना चाहता हूं-उसे मिलने दिया गया. मां जब पहुुंची तो उसने  अपनी मां को अपने  पास बुलाया और उससे लिपट गया और इतनी जोर से मां के कान को काटा कि उसे खीचकर हटाना पड़ा. जब उससे पूछा गया कि तुमने ऐसा क्यों किया तो उसका जवाब था आज मैं जिस स्थिति में हूं उसकी पूरी जिम्मेदार मेरी यह मां हैं अगर मेरी मां बचपन से मुझे मारती और हर जिद पूरी नहीं करती तो शायद आज मैं ऐसा नहीं बनता. इस दास्तान के जरिये हम यही बताना चाहते हैं कि बुनियाद घर से रखी  जाती है अगर बुनियाद हिल गई तो मकान का हश्र क्या होता है किसी को बताने की जरूरत नहीं.कुछ समय से प्राय: हर राज्य और शहर में चोरी, रोड-रेज, छेडख़ानी, बलात्कार, हत्या जैसे संगीन अपराधों में नाबालिगों की बढ़ती संख्या डराने वाली है.आपराधिक घटनाओं में नाबालिगों की बढ़ती संलिप्तता समाज और देश दोनों के लिए नुकसानदेह है. देश का भविष्य युवाओं पर निर्भर करता है, लेकिन जब उसी वर्ग का एक हिस्सा अपराध की राह पर आगे बड़ रहा हो, तब यह सोचने वाली बात है कि हमारा समाज किस दिशा में जा रहा है और हम किस प्रकार के भविष्य की नींव रख रहे हैं? ऐसा नहीं है कि इसमें केवल आर्थिक रूप से कमजोर या गरीब लड़के शामिल हैं, बल्कि ऐसी घटनाओं में संपन्न वर्ग के लड़के भी शामिल हैं.हो सकता है कि गरीब घरों के लड़के पैसों के अभाव की वजह से इस ओर प्रेरित हुए हों, लेकिन अमीर घरों के लड़के तो अहंकार के कारण अपराध के रास्ते पर आगे बढ़ते हैं, क्योंकि उन्हें लगता है कि कानून उनका क्या बिगाड़ लेगा और पैसे के बल पर वे बच जाएंगे. नाबालिगों की इस स्थिति के लिए माता-पिता भी कम जिम्मेवार नहीं हैं, जो अपने बच्चों की हर वाजिब-गैर वाजिब मांग और जिद को बचपन से ही पूरा करते रहते हैं,बिना यह सोच-विचार किए कि इसका परिणाम क्या होगा और इससे हम अपने बच्चों की कैसी मानसिकता बना रहे हैं. नतीजा, नाबालिग बच्चे अपने माता-पिता की बात तक नहीं सुनते.टेलीविजन, इंटरनेट और सोशल मीडिया ने बच्चों को समय से पहले वयस्क बना दिया है.राजधानी रायपुर और  छत्तीसगढ़ के अन्य शहरों में  सड़कों पर खुलेआम चौदह-पंद्रह वर्ष के लड़के बिना हेलमेट के स्कूटी-बाइक तो तेज रफ्तार में चलाते ही हैं, बड़ी-बड़ी गाडिय़ां भी तेजी से चलाते हैं.यह बताने की जरूरत नहीं कि अधिकांश बाइक एक्सीडेंट नाबालिगों की बिगड़ी हुई मानसिकता का ही नतीजा है इन्हें रोकने वाला कोई नहीं,डेडी-मम्मी पहले भी अपने बच्चों की कारगुजारियों पर परदा डालने की ही कोशिश करते हैं दूसरी ओर इन्हें कानून का भी भय नहीं है.नाबालिगों में बड़ती आपराधिक प्रवृत्ति को रोकने के लिए पारिवारिक, सामाजिक और प्रशासनिक सभी स्तरों पर सजग होने की आवश्यकता है. इसमें भी माता-पिता की भूमिका सबसे महत्त्वपूर्ण है. माता-पिता को बच्चों की छोटी-छोटी गलत हरकतों को नजरअंदाज करने की बजाय उन पर ध्यान देने और ऐसा करने से रोकने के लिए सख्त कदम उठाना चाहिए.स्कूलों में नियमित रूप से बच्चों की काउंसलिंग की व्यवस्था की जानी चाहिए और इसमें पुलिस का भी सहयोग लिया जाए.

्र

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …