सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गुरू की तपोभूमि में राहुल के कदम!







गुरू घासीदास की तपोभूमि गिरोधपुरी कांग्रेस की गुटबाजी का रणक्षेत्र बनकर क्या संदेश दे गई? यह तो भविष्य ही बतायेगा लेकिन राहुल गांधी गिरौधपुरी की इस धार्मिक नगरी की यात्रा में अपने आपकों राजनीति से बचाकर निकालने में सफल रहे. गिरौदपुरी में उन्होंने पदयात्रा की, जैतखंभ के दर्शन किए लेकिन कांग्रेसियों के बीच जमकर बवाल हुआ, अपमान हुआ,कहा-सुनी हुई और अपशब्दों का जमकर प्रयोग भी हुआ.छत्तीसगढ़ में जबर्दस्त गुटबाजी में उलझी कांग्रेस का यह रूप  जिसने भी देखा उसने यही  कहा कि क्या यह लोग इसी तरह फिर पार्टी को खड़ा करेंगे?राहुल गांधी की यात्रा को सफल बनाने यद्यपि कांग्रेसियों ने कोई कसर नहीं छोड़ी मगर अपने गुटबाजी की संस्कृति को रेखाकिंत कर मूल एजेण्डे को धराशायी करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ी.गिरोधपूरी में निर्मित हुए माहौल को सिलसिलेवार जोड़कर देखे तो अतीत की कुछ घटनाएं अपने आप पोल खोलकर रख देती है कि गुटबाजी का यह खेल छत्तीसगढ़ में परंपरागत ढंग से यूं ही चलता आ रहा है लेकिन अब इसका रूप काफी विकृत हो चला है जिसमें कुछ ऐसी मिलावट हो गई है जिसको सहन कर पाना शायद अबके वरिष्ठो के लिये संभव न हो.जब छत्तीसगढ़ मध्यप्रदेश के साथ जुड़ा हुआ था तब भी गुटबाजी थी और इसका कई सिरा या कहे लगाम वीसी शुक्ल, श्यामाचरण शुक्ल,अर्जुन सिंह, दिग्विजय ङ्क्षसंह जैसी बड़ी हस्तियों के हाथ में हुआ करती थी और इनके तीर जिस निशाने को भेदना चाहतें है वह इन हस्तियों की उंगलियां ही तय करती थी. पुराने लोग  गिरौधपुरी की घटना को देख व सुनकर अतीत की याद कर इस घटना को लेकर शायद जरा भी विचलित नहीं हुए होंगें चूंकि इसका तो एक इतिहास रहा है जब इशारों पर गाली गलौच मारपीट तोडफ़ोड़ सब शुरू हो जाती थी तथा कोई भी बडा नेता सारी मर्यादाओं को तोड़कर उसकी चपेट में आ जाता था.स्वंय दिग्विजय सिंह भी उस समय लपटे में आ गये थे जब छत्तीसगढ़ का नया मुख्यमंत्री चुनने के लिये वीसी शुक्ल के फार्म हाउस गये थे. मैं और मेरा परिवार की राजनीति ने भी छत्तीसगढ़ में कांगेे्रस को काफी नुकसान पहुंचाया है. इसी गुटबाजी का नतीजा था कि वीसी शुक्ल और श्यामाचरण शुक्ल जैसी हस्तियों को पार्टी के अंदर-बाहर का खेल खेलना पड़ा. अरविन्द नेताम, संत पवन दीवान जैसे लोग भी गुटबाजी का शिकार होकर कभी इधर कभी उधर की राजनीति में समा गये.असल बात तो यह है कि छत्तीसगढ़ में कांग्रेस मजबूत होकर भी शक्तिविहीन है उसके पीछे उसकी झगडालू प्रवृत्ति है-कोई आगे बढ़ रहा है तो उसकी टांग खीचों के चक्कर में पिछले चुनावों में जीतकर भी कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा.यह किसी से छिपा नहीं है कि कांग्रेस के सारे निर्णय दिल्ली में हाईकमान के इशारे पर ही होता है किन्तु प्रदेश स्तर के नेता तो दिल्ली में पहुंचने वाले नेताओं के सामने भी अपना गुस्सा निकालकर अपने पैरों पर ही कुल्हाड़ी मार लेते हैं. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के आगमन के समय तक बड़े बड़े नेताओं ने अपना असली चेहरा दिखाने में कोई कमी नहीं की थी. धार्मिक नगरी गिरौधपुरी में आयोजित कार्यक्रम के लिये संगठन के लोगों ने अजीत जोगी को न्यौता दिया था, वे वहां पहुंचे भी  मगर शायद झगड़े की शरूआत उस पोस्टर से हुर्ई जिसमें सिर्फ राहुल गांधी, भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव और रुद्र गुरु की फोटो लगी थी किन्तु अजीत जोगी की फोटो नहीं थी। जैसे ही अजीत जोगी अपने समर्थकों के साथ हैलीपैड के पास पहुंचे, समर्थकों ने जोगी के पक्ष में नारेबाजी शुरू कर दी और पदयात्रा मार्ग में लगे पोस्टरों को फाड़ दिया यह शायद इसलिये भी हुआ होगा चूंकि अजीत जोगी समर्थकों को लगा कि उन्हें यहां वेटेज नहीं दिया गया.गिरौदपुरी में एक दूसरे के खिलाफ नारेबाजी के साथ अपशब्दों का प्रयोग भी हुआ.हेलिपैड पर राहुल का स्वागत करने वालों की सूची में जोगी और उनके समर्थकों का नाम नहीं होना ही इस हंगामे की वजह माना गया है. जोगी और सतनामी समाज के धर्म गुरु रुद्र गुरु के बीच तू-तू, मैं-मैं यह दर्शाता है कि अब कांग्रेस में सीनियर जूनियर का भी कोई ख्याल नहीं रखता.बात यहां तक पहुंची कि रुद्र गुरु ने आरोप लगाया कि जोगी ने उन्हें अपशब्द कहे,अब इसका जवाब सतनामी समाज देगा. राहुल के कार्यक्रम के लिए अजीत जोगी को भी बाकायदा एआईसीसी से बुलावा था बावजूद इसके जोगी का नाम स्वागत करने वालों की सूची में नहीं होना गुटबाजी को साफ उजागर करता है.यह भी सोची समझी राजनीति का हिस्सा हो सकता है कि  गिरौदपुरी में बने हेलीपैड से भीतर जाने लगे तो उन्हें एसपीजी के लोगों ने रोका इस समय भी जोगी समर्थकों ने वहां नारेबाजी शुरू की. पदयात्रा के बाद राहुल ने जैतखंभ पहुंचकर गर्भगृह में दर्शन किए. दर्शन करने के बाद वे सतनामी समाज के धर्म गुरु विजय गुरु से मिलने उनके घर गए ,वहां बंद कमरे में राहुल ने उनसे मुलाकात की. सतनामी  समाज को अपने साथ मिलाये रखने में कांग्रेस की रणनीति का एक हिस्सा माना जा सकता है. सतनामी समाज अपना एक प्रतिनिधि राज्य सभा में चाहता है. राहुल गांधी यद्यपि  पत्रकारों से कुछ नहीं बोले लेकिन इतना जरूर कह गये कि वे सामाजिक व धार्मिक यात्रा पर यहां आए हैं, इसलिए कोई राजनीतिक बात नहीं करना चाहते. यह संकेत देता है कि गुटबाजी की पूरी खबर के बाद भी वे यही दिखाना चाहते थे कि वे सबसे अंजान हैं.












इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …