सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

ेआखिर नक्सलियों को गोला बारूद और रसद कोैन पहुंचा रहा है?





बारूद के ढेर पर है बस्तर -यहां से उठने वाली चीख पुकार और उसके बाद शांत होती जिंदगी यूं कब तक हमे सुननी पड़ेगी?  घटना के बाद निंदा,फिर मुआवजा तथा जवानों की तैनाती क्या यही इस समस्या का हल है? नक्सलियों द्वारा बिछाए गए बारूदी सुरंग की चपेट में आने से पिछले सप्ताह एक और आदिवासी महिला की मौत हो गई उससे एक दिन पहले प्रेशर बम की चपेट में आने से तीसरी कक्षा में पढऩे वाली छात्रा की भी मौत हो गई यह इतना वीभत्स था कि सुनने वालों के रोंगटे खड़े हो गये और जिसने इस भयानक हादसे को देखा होगा वह तो  पता नहीं किस तरह इसे देखने के बाद अपनी शेष जिंदगी काटेगा. सुकमा के भेज्जी थाना क्षेत्र म गोरखा गांव के कोसिपारा की मुचाकी हिड़मे महुआ बीनने जंगल की ओर गई थी।तभी मुचाकी का पैर नक्सलियों की ओर से जवानों को निशाना बनाने के लिए लगाए गए प्रेशर बम पर पड़ते ही उसके चिथड़े उड़ गये.इतने समय के दौरान ऐसा लगता है कि बस्तर के चप्पे चप्पे पर नक्सलियों ने मौत बिछा रखी है जिसमें हमारे जवान फंसते हैं तो कभी बेक सूर ग्रामीण तो कभी वे खुद भी अंजाने में फंस जाते हैैं तो इसमें भी कोई अतिशयोक्ती नहीं होनी चाहिये. इस घटना के पूर्व  मुरलीगुड़ा के पास जिस प्रेशर बम की चपेट में आने से  आठ साल की आदिवासी स्कूली छात्रा मुचाकी अनीता की मौत हुई थी। वह 5 किलो का था.विशेषज्ञ बताते हैं इतनी मात्रा के विस्फोटक से एक बड़ी गाड़ी को आसानी से उड़ाया जा सकता है. गौरतलब है कि इसी जगह पर बारूदी सुरंग बिछी थी जिसकी  चपेट में  आने से सीआरपीएफ का एक जवान भी शहीद हो गया था और एक डिप्टी कमांडेंट कोमा में चला गया. सवाल  यह भी उठता है कि बस्तर के आदिवासी क्षेत्रों तक यह विस्फोटक कैसे, किसके माध्यम से पहुंच रहे हैंॅ. इतनी पुलिस की नजर बचाकर बीहड़ों में विस्फोटकों का पहुंच जाना, भारी संख्या में मौजूद नक्सलियों के लिये खाने पीने की सारी सुविधांए  पहुेचना यह सब ऐसे सवाल हैैं जो आज तक इतना पैसा खर्च करने के बाद भी बना हुआ है. हम आदमी को सरकार से पूछने का यह अधिकार है कि हमारी जेब से पैसा निकालकर कब तक यूं खून का खेल चाहे वह नक्सलियों का हो या हमारे जवानों का खेला जाता रहेगा? सरकार अगर हमले के बाद निंदा करके या कुछ ओैर  फोर्स बढा़कर इस समस्या को  यूं ही ठण्डे बस्ते में डालती रही तो ऐसा लगता है कि इस समस्या का कोई हल ही नहीं है.इस बात की खुशी है कि सरकार ने इस घटना के बाद कोई देर न करते हुए पीडि़तोंं को पांच पांच  लाख रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की लेकिन  सवाल फिर  भी बना हुआ है कि आखिर  ऐसा हम कब तक करते रहेंगे. वे मारते रहेंगे, हम मरते रहेंगे और उनके भी कई मारे जायेेंगे-यह सब आखिर  कब तक? इसे एक इमरजेसंी  प्राब्लम की तरह क्यों नहीं देखा जा रहा?हम मानते हैं कि नक्सलियों के खिलाफ सेना का इस्तेमाल करने से बहुत से निर्दोष ग्रामीणों का भी अंत होगा लेकिन अभी  तो तुला पर दोनों ही एक समान मौत को गले लगा रहे हैं- ऐसे में सिर्फ यूं खामोश बैठकर तमाशा देखने  से अच्छा यही हैं कि एक ज्वाइंट अभियान  सभी सीमावर्ती राज्यों की बैठक बुलाकर बनाई जाये जिसमें नक्सलियों को पहुंचने वाली रसद  गोला बारूद को सीमा के आसपास ही रोकने व लाने ले जाने वालों को पहले बंद करने की योजना बनाई जाये साथ ही सीमा को चारों तरफ से कुछ समय के लिये सील किया  जाये ताकि बाहर किसी  भी तरह से आने वाले  गोला बारूद और रसद को छिपे नक्सलियों तक पहुंचने न दिया जाये तभी यह संभव होगा कि बीहड़ में छिपे परेशान होकर बाहर निकलेंगे-प्रक्रिया ठीक उसी तरह है जैसे किसी बिल में घुसे सांप को धुआं करके बिल से निकालना. असल प्रशन आज यह नहीं कि गोली कौन चला रहा है और कौन किसे मार रहा है- सवाल तो यह है कि गोली चलाने वालों को जिंदा कौन रख रहा है और कौन उन्हें बारूद और रसद पहुंचा रहा है? एक  बार हम पुलिस के इस  दावे को मान भी ले कि उसके कथित दबाव के आगे नक्सली भारीी तादात में सरेन्डर कर रहे हैं तो फिर यह सवाल उठता है कि उसके बाद भी  उसपर घेर घेरकर हमले कैसे हो रहे हैं? इससे तो यह साबित हो रहा है कि नक्सलियों की तादात पुलिस फार्स से कई गुना ज्यादा हें और  उनके पास कई किस्म के घातक हथियार भी है यहां तक कि विदेशी राष्ट्रों से पहुंचने वाले हथियार भी! सरकार को चाहिये कि वह प्रदेश में सुख शांति और विकास के लिये बस्तर को केन्द्र और आसपास के राज्या की मदद से एक ही बार में समस्या के हल करने की कोशिश करें!



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …