सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

एप्रिल फूल बनाया तो उनको गुस्सा आया....नये वित्तीय वर्ष का पहला दिन!





''दिन है सुहाना आज पहली तारीख है, खुश है ज़माना आज पहली तारीख है -पहली तारीख अजी पहली तारीख है, बीवी बोली घर जऱा जल्दी से आना, जल्दी से आना शाम को पियाजी हमें सिनेमा दिखाना, हमें सिनेमा दिखाना करो ना बहाना हाँ बहाना बहाना करो ... आजादी के बाद के वर्षो में किशोर कुमार का गाया यह गाना रेडियों पर पहली तारीख को दिन में कई बार बजा करता था, फिर जब अपेे्रेल का महीना आता तो इस महीने की पहली तारीख को मोहम्मद रफी अपने इस अंदाज में गाते थे- अपे्रल फूल बनाया तो उनको गुस्सा आया.... लेकिन अब गानों की वो बहार खत्म हो चुकी है. अप्रेल के महीने की पहली तारीख को लोगों ने एप्रिल फूल बनाना भी बंद कर दिया है. कुछ ही लोग रह गये जो इस पाश्चाथ्य मिथ्य को मानते हैं बहरहाल पश्चिमी देशों में हर साल पहली अप्रैल को एप्रिल फूल डे के रूप में ही मनाया जाता है. कभी ऑल फूल्स डे के रूप में जाना जाने वाला यह दिन, 1 अप्रैल एक आधिकारिक छुट्टी का दिन नहीं है लेकिन इसे व्यापक रूप से एक ऐसे दिन के रूप में जाना और मनाया जाता है जब एक दूसरे के साथ व्यावहारिक मजाक और सामान्य तौर पर मूर्खतापूर्ण हरकतें करते हैं. इस दिन दोस्तों, परिजनों, शिक्षकों, पड़ोसियों, सहकर्मियों आदि के साथ अनेक प्रकार की शरारतपूर्ण हरकतें और अन्य व्यावहारिक मजाक किए जाते हैं, जिनका उद्देश्य होता है बेवकूफ और अनाड़ी लोगों को शर्मिंदा करना. पारंपरिक तौर पर कुछ देशों जैसे न्यूजीलैंड, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका में इस तरह के मजाक केवल दोपहर तक ही किये जाते हैं और अगर कोई दोपहर के बाद किसी तरह की कोशिश करता है तो उसे अप्रैल फूल कहा जाता है. ऐसा इसीलिये किया जाता है क्योंकि ब्रिटेन के अखबार जो अप्रैल फूल पर मुख्य पृष्ठ निकालते हैं वे ऐसा सिर्फ पहले (सुबह के) एडीशन के लिए ही करते हैं. इसके अलावा फ्रांस, आयरलैंड, इटली, दक्षिण कोरिया, जापान रूस, नीदरलैंड, जर्मनी, ब्राजील, कनाडा और अमेरिका में जोक्स का सिलसिला दिन भर चलता रहता है. 1 अप्रैल और मूर्खता के बीच सबसे पहला दर्ज किया गया संबंध चॉसर के कैंटरबरी टेल्स (1392) में पाया जाता है.कई लेखक यह बताते हैं कि 16वीं सदी में एक जनवरी को न्यू ईयर्स डे के रूप में मनाये जाने का चलन एक छुट्टी का दिन निकालने के लिए शुरू किया गया था, लेकिन यह सिद्धांत पुराने संदर्भों का उल्लेख नहीं करता है.भारत में कल आने वाला अपे्रल का दिन लोगों को अपे्रल फूल बनायेगा या कोई हकीकत लेकर आयेगा यह समझने की बात होगी. नई पीढ़ी इस दिन को भूल चुकी है. उसे यह भी नहीं मालूम कि ऐसा कोई दिन भी कभी मनाया जाता था. बच्चों ने भी पहली अप्रेेल को किसी को फूल बनाना छोड़ दिया है. असल में पहली अप्रेल के प्रति आम धारणा है कि एक अप्रैल भ्रम में डालने व मजाक बनाने का दिन है. मगर हकीकत में यह नये वित्तीय वर्ष की शुरुआत का पहला दिन है.इस दिन सरकार नये कायदे-कानूनों के जरिये अपनी आर्थिक व सामाजिक नीतियों को लागू करती है. इस बार भी कई महत्वाकांक्षी व लोककल्याणकारी नीतियों का क्रियान्वयन होना है. केंद्र सरकार इस दिन अपनी महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को पूरे देश में लागू करने जा रही है. अब तक देश के 45 जिलों में यह योजना पायलट प्रोजेक्ट के रूप में चल रही थी. थोड़ा-सा अधिक प्रीमियम चुकाकर किसान फसल बीमा के अलावा सात अन्य बीमा योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं.  रेल मंत्रालय भी इस दिन से वरिष्ठ नागरिकों के आरक्षण कोटे में पचास फीसदी तक की वृद्धि करेगा, इसके साथ ही गर्भवती महिलाओं की समस्या को दृष्टिगत रखते हुए शयनयान श्रेणी के डिब्बों में आरक्षण बढ़ा दिया गया है. उन्हें हर तरह की ट्रेनों में लोअर बर्थ मिलेगी.वैसे छोटी बचत करने वाले उपभोक्ताओं को निराशा हो सकती है. नये वित्तीय वर्ष में छोटी बचतों पर दिये जाने वाले ब्याज में कटौती की जायेगी, इसमें पीपीएफ, सुकन्या समृद्धि योजना, किसान विकास पत्र, एनएसएस और डाकघर से जुड़ी कई बचतों के ब्याज में कटौती होगी. एक अप्रैल से लागू की जाने वाली व्यवस्था के अनुसार ब्याज की दरों की समीक्षा हर तीन महीने में की जाएगी. छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाले ज्यादा ब्याज को कर्ज ब्याज दर में कटौती की राह का सबसे बड़ा रोड़ा माना जाता रहा है. अब बैंक नीतिगत दरों में कटौती का लाभ कारोबारियों को दे सकेंगे?मगर इसका खतरा भी है कि लाभ की उच्च प्रत्याशा के चलते लोग सोने में निवेश करना न शुरू कर दें जो सरकार के वित्तीय घाटे का वाहक न बन जाये. एक अप्रैल से ही पेट्रोलियम व प्राकृतिक गैस मंत्रालय ने नौ राज्यों के 33 जिलों में मिट्टी के तेल पर सीधी सब्सिडी देने का निर्णय किया है.वे तेल खरीदते समय बाजार मूल्य पर भुगतान करेंगे. इसके साथ ही एक अप्रैल से राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम दस और राज्यों में लागू हो जाएगा.इसे लागू करने वाले राज्यों की संख्या अब 21 हो जायेगी. हर दृष्टि से अप्रेल के पहली तारीख ने इस बार अपना महत्व बता दिया है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …