सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आंदोलनों को क्यो लम्बा खिचने दिया जाता है?




कभी पटवारी तो कभी कोटवार! तो कभी आंगनबाड़ी, कभी संविधा शिक्षक तो कभी सफाई क,र्मी,मीटर रीडर...औैर अब रोजगार सहायकों का सत्याग्रह!. आंदोलन करने वालों का दायरा धीरे धीरे बढ़ता ही जा रहा है.सरकार ने भी बड़ी चालाकी से आंदोलन करने वालों के लिये राजधानी के बूढ़ापारा में एक जगह भी निश्चित कर दी है जैसे कह रहे हो तुम वहीं रहो जो करना है करों हमने अपने कान में रूई लगा रखी है. आंदोलनकारी मांगे मनवाने के लिये तरीके भी अलग अलग इजाद कर रहे हैं.कभी पूरे परिवार को साथ लेकर तो कभी सर मुडाकर तो कभी बदन से सारे कपड़े उतारकर तो कभी भैस लेकर तो कभी घासलेट का डिब्बा हाथ में लेकर उमड़ पड़ते हैं. सवाल यह उठता है कि इन सबकी नौबत आती क्यों हैं? हम मानते हैं कि सत्याग्रह, आंदोलन ,धरना प्रदर्शन सब हमारा संवैधानिक अधिकार है. धरना, प्रदर्शन,आंदोलन, सत्याग्रह यह सब तब शुरू होता है जब सामने वाला अर्थात समस्या को हल करने वाली अथारिटी मामले  को उलझा दे. इस अडियलपन के पीछे हो सकता है उनको किसी  के द्वारा अर्थात प्रशासनिक लोगों के द्वारा ही बताई गई कोई मजबूरी हो. पहले आंदोंलनों का फैलाव  प्रायवेट कंपनियों का ज्यादा होता था चूंकि वे अपने कर्मचारियों को सुविधाएं कम देते थे तथा वेतन से ज्यादा काम कराते थे,कंपनियां अब पटरी पर आ गई हैं उन्होनें बहुत हद तक अपनी स्थिति सुधार ली है वे अपने कर्मचारियों की हडताल से होने वाले नुकसान  को महसूस करने लगे.हडताल  की वजह से कई  कंपनियों मे तालेबंदी हुई और कुछ मालिकों को तो राजा से रंक बना दिया गया. सारा अनुभव पाकर कंपनियों ने अपनी व्यवस्था में आमूल चूल परिवर्तन किया. कर्मचारियों को खुश रखने उत्पादन बढ़ाने के लिये उन्होंने न केवल अच्छी तनखाह देना शुरू किया बल्कि समय समय पर त्यौहार और अन्य मौकों पर उन्हे गिफट देकर भी उपकृत किया . कर्मचारियों के आवास, उनकी  चिकित्सा, व बच्चो की पढ़ाई और अन्य अनेक प्रकार की सुविधाएं देने से प्रायवेट कंपनियों में यह स्थिति बन गई कई कंपनियों में लोग उनके परिवार के सदस्य की तरह हो गये. पिछले सालों में गुजरात से एक खबर आई थी कि एक हीरा व्यवसायी ने अपनी कंपनी के लोगों को दीवाली के मौके पर कार और फलेट तक भेंट किये. अगर ऐसा कुछ किसी मध्यम वर्ग के साथ हो जाता है तो वह जिंदगीभर के लिये उन्हीं का होकर रह जाता है. हम इसका जिक्र यहां इसलिये कर रहे हैं चूकि सरकार को भी यह समझना चाहिये कि वह भी एक कपंनी की तरह है, उसे अपने कर्मचारियों को उतनी ही खुशी  देनी पड़ेगी जो निजी कंपनियां अपने कर्मियों को देती हैं. काम की दक्षता के अनुसार वेतन भत्तो का भुगतान करने में क्या हर्ज है? अक्सर सरकारी कर्मचारियों के आंदोलनों में उतरने  के लिये सरकार में बैठे नौकरशाह जिम्मेदार हैं जो कर्मचारियों को  ठीक से टेकल नहीं कर पाते. बीच बचाव के नाम पर तनाव पैदा करते हैं और मामला आंदोलन,धरना,सत्याग्रह और न जाने क्या क्या तक में पहुंच जाता है. अगर आंदोलनों को प्रारंभिक चरणों में ही बातचीत के जरिये किसी निष्कर्ष पर पहुंचा दिया जाये तो ऐसी नौबत ही नहीं आये. छत्तीसगढ़ में पिछले  वर्षो के दौरान आंदालनों की बाढ़ आ गई है. कोटवार, पटवारी, आंगनबाड़ी  संविधा शिक्षकों, मीटर रीडरों,कम्पयूटर आपरेटरों  का आंदोलन कई महीनों तक चलता रहा जिससे सरकारी कामकाज बहुत बुरी तरह पभावित रहा. कई आंदोलन जहां बिना किसी निष्कर्ष के खत्म हो जाता है तो कई में फैसले ऐसे होते हैं जिसके बारे में हमें सोचने मजबूूर होना पड़ता है कि यही दिमाग पहले लगा दिया जाता तो इतने दिनों तक आंदोलन नहीं चलता. चिकित्सा क्षेत्र तथा शहर की सफाई में लगे कर्मचारियों की हड़ताल से कई कई दिनों तक जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. निचले स्तर के कर्मचारियों का आंदोलन -वेतन तथा संबन्धित मांगों को लेकर होता है, जिसे त्वरित बातचीत से निपटाया जा सकता है लेकिन अडियलपने के कारण यह लम्बा खिचता चला जाता हैॅ लेकिन बड़े मुद्दे जैसे आरक्षण और किसानों की समस्या जैसे आंदोलनों का फैसला सरकार में बड़े स्तर पर लेने का होता है-ऐसे आंदोलन सरकार की नीतियों पर निर्भर करता है अगर सरकार ने टेक्टिस से मामले का सुलझा लिया तो ठीक वरना ऐसी ही स्थिति बनेगी जैसी गुजरात में पटेलों के आंदोलन से बनी और हरियाणा में जाट आरक्षण आंदोलन से बनी.  इन आंदोलनों ने यह भी तो सााबित कर दिया है कि ऐसे आंदोलनों से सरकारी पैसे का किस हद तक नुकसान होता है. छोटे से छोटै आंदोलन में जहां समय की  बर्बादी  हो रही हैं वहीं  बड़े आंदोलन कई करोड़ों रूपये की संपत्ति को फूकने  का काम करते हैं.



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

ANTONY JOSEPH'S FAMILY INDX

History of Mattappallil -
 Madukkakuzhy family

ANTONY JOSEPH”S
FAMILY. INDEX
 A family with its own tradition and values,started many decades ago from a place called EdamattomPallattu in Kottayam districtin Kerala.They have a well settled position not only in India but also abroad. The members of this family are not only in different parts of India but also in many developed countries like United States of America ,Rome,South Arabia multiplying the family's honour and fame with their professional expertise in the field of education,politics , journalism etc. In this note we go through a rough idea of the family history. Since we don't have any knowledge about many members of the old generations, we regret to skip off the details about them.Now with the help of the eldest member of this family ie J M Thomas (Thomachen)of Kottayam,we get a picture about the members of our family and how it branched.We belong to Edamattam Pallattu family. The family starts with two avakashi sist…

प्रेम, सेक्स-संपत्ति की भूख ...और अब तो रक्त संबंधों की भी बलि चढऩे लगी!

कुछ लोग तो ऐसे हैं जो मच्छर, मक्खी, खटमल और काकरोच भी नहीं मार सकते लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जो हैवानियत की सारी हदें पार कर मनुष्य यहां तक कि अपने रक्त संबंधों का भी खून करने से नहीं हिचकते. इंसान खून का कितना प्यासा है वह आज की दुनिया में हर कोई जानता है क्योंकि आतंकवाद और नक्सलवाद के चलते रोज ऐसी खबरें पढऩे-सुनने को मिल जाती है जो क्रूरता की सारी हदें पार कर जाती हैं. मनुष्य का राक्षसी रूप इस युग में ही देखने को मिलेगा शायद किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी. आतंकवाद और नक्सलवाद हिंसा के दो रूप के अतिरिक्त अब रिश्तों के खून का वाद भी चल पड़ा है जो सामाजिक व पारिवारिक मान्यताओं, संस्कृति- परंपराओं का भी खून कर रहा है. नारी जिसे अनादिकाल से अबला, सहनशक्ति और मासूमियत, ममता और प्रेम का प्रतीक माना जाता रहा है उसका भी अलग रूप देखने को मिल रहा है. रक्त संबंध, रिश्ते, सहानुभूति, आदर, प्रेम, बंधन सबको तिलांजलि देकर जिस प्रकार कतिपय मामलों में अबलाओं ने जो रूप दिखाना शुरू किया है वह वास्तव में ङ्क्षचंतनीय, गंभीर और खतरनाक बन गया है. नारी के कई रूप हमें इन वर्षों के दौरान देखने को मिले हैं लेकिन ज…