सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

खर्चीले सत्र में हंगामे का साया और सरकार की रणनीति!




पार्लियामेंट का पिछला सेशन हंगामें की भेंट चढ़ गया. कई महत्वपूर्ण बिल अटक गये कोई सरकारी काम नहीं हुआ.हंगामे से देश के खजाने को करोड़ों रूपये की चोट लगी चूंकि संसद की कार्यवाही का हर लम्हा खर्चीला और कीमती होता है. इस बार सरकार की तरफ से एहतियात बरती जा रही है कि संसद में कोई हंगामा न हो.सरकार चाहती है कि बजट सेशन शांतिपूर्ण निपट जाये और अटके बिलों को पास कर दिया जाये. मंगलवार को बजट सेशन का पहला दिन था. राष्ट्रपति के अभिभाषण मेंं भी इस बात की चिंता स्पष्ट झलकी कि सत्र हंगामेदार हो सकता है उन्होने अपने अभिभाषण में भी यह बात कही है कि संसद चर्चा के लिये है हंगामे के लिये नहीं. प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी भी चाहते हैं कि संसद में हंगामा न हो  और कामकाज ठीक से चले. उनका यह कहना ही इसके लिये  काफी है कि देश को बजट सेशन से बड़ी उम्मीद है। दो पार्ट में होने वाले इस सेशन में हंगामा होने के आसार इसलिये भी हैं चूंकि विन्टर सेशन के बाद से अब तक देश में कई ऐसी घटनाएं हो चुकी है जो विपक्ष को शांत रहने नहीं देगी इसलिये प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति दोनों की ंिचंता में दम हैॅ.  विपक्ष जाट आंदोलन और रोहित वेमुला सुसाइड केस पर सत्ता पक्ष को घेरने की कोशिश करेगा यह मामला किसी न किसी रूप में उठेगा जो संसद में हंगामें की वजह बनेगी. प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी  की अचानक पाकि स्तान यात्रा, पाक से वार्ता का रूक जाना जैसे मुद्दे भी संसद में हंगामें व बहस का विषय बन सकते हैें. सरकार की कोशिश अहम बिलों को पास कराने की है लेकिन सरकार ज्वलंत मुद्दों को कैसे रोकेगी?सरकार यह कहकर अपनी सफलता का दावा कर सकती है कि आतंकवाद के खिलाफ हमारी सेना ने शानदार कामयाबी हासिल की है। ऑपरेशन राहत के तहत  चार हजार भारतीयों और डेढ़ हजार विदेशियों को यमन से निकाला। पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन पर हमला जरूर सफलतापूर्वक निष्फल किया गया लेकि न हमारी कतिपय चूक के कारण इस गंभीर आतंकी हमले में हमारे योग्य और  काबिल जवानों तथा अफसरों को हमें खोना पड़ा है. पठानकोट हमले में इंटेलीजेंस की विफलता भी इस सत्र में सरकार के लिये मुसीबत खड़ी कर सकती है.सरकार को घेरने के लिये इस बार भी विपक्ष के पास कई ठोस मुद्दे हैं परन्तु यह सब तभी होगा जब हम फलेश बैक में जाकर यह देख पायेंगे कि विपक्ष को शांत रखने के लिये सरकार की तरफ से क्या रणनीति अपनाई गई हैं यह सब इसी सप्ताह के बाकी दिनों में स्पष्ट होने लगेगा। पार्लियामेंट का सेशन शुरू होने से पहले  सरकार ने विपक्ष को साथ लेकर एक माहौल बनाने की पूरी कोशिश की है किन्तु यह कहना जल्दबाजी होगी कि सेशन में सब कुछ अच्छा ही होगा. सरकार के पास अपनी सफलता गिनाने के बहुत से बहाने हैंजबकि विपक्ष मंहगाई, रेल भाड़े में वृद्वि जैसे मुद्दों पर भी मुखर हो जाये तो आश्चर्य नहीं.इस सत्र के अंतराल मेंं सोनिया राहुल को जेल भिजवाने का पूरा प्रबंध भी  हो चुका है-क्या विपक्ष इसे भी भूल जायेगा?  सरकार यह कह सकती है कि भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उसने सख्ती बरती है किन्तु देश के अनेक भागों में क्राइम भी तो एक समस्या है जिसपर विपक्ष का रूख क्या होगा कहा नहीं जा सकता. सरकार को उपलब्धियां गिनाने का मौका मिला तो सरकार कहेगी बिजली+घर+सड़क सब ओर काम चल रहा है-बहरहाल  हर कोई यही चाहता है कि सबकुछ ठीक ठाक चले सरकार आम जनता के हित मेें अच्छा बजट पेश करें और लम्बित बिलों पर सरकारी मुहर लगे मगर यह सेशन भी पूर्व की तरह यूं ही चला गया तो बहुत कुछ नुकसान देश को होगा वैसे पहले दिन की शंति से  फिलहाल तो ऐसा  ही लग रहा है कि सब कुछ ठीक ठाक ही रेहेगा.

...

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …

प्रेम, सेक्स-संपत्ति की भूख ...और अब तो रक्त संबंधों की भी बलि चढऩे लगी!

कुछ लोग तो ऐसे हैं जो मच्छर, मक्खी, खटमल और काकरोच भी नहीं मार सकते लेकिन कुछ ऐसे भी हैं जो हैवानियत की सारी हदें पार कर मनुष्य यहां तक कि अपने रक्त संबंधों का भी खून करने से नहीं हिचकते. इंसान खून का कितना प्यासा है वह आज की दुनिया में हर कोई जानता है क्योंकि आतंकवाद और नक्सलवाद के चलते रोज ऐसी खबरें पढऩे-सुनने को मिल जाती है जो क्रूरता की सारी हदें पार कर जाती हैं. मनुष्य का राक्षसी रूप इस युग में ही देखने को मिलेगा शायद किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी. आतंकवाद और नक्सलवाद हिंसा के दो रूप के अतिरिक्त अब रिश्तों के खून का वाद भी चल पड़ा है जो सामाजिक व पारिवारिक मान्यताओं, संस्कृति- परंपराओं का भी खून कर रहा है. नारी जिसे अनादिकाल से अबला, सहनशक्ति और मासूमियत, ममता और प्रेम का प्रतीक माना जाता रहा है उसका भी अलग रूप देखने को मिल रहा है. रक्त संबंध, रिश्ते, सहानुभूति, आदर, प्रेम, बंधन सबको तिलांजलि देकर जिस प्रकार कतिपय मामलों में अबलाओं ने जो रूप दिखाना शुरू किया है वह वास्तव में ङ्क्षचंतनीय, गंभीर और खतरनाक बन गया है. नारी के कई रूप हमें इन वर्षों के दौरान देखने को मिले हैं लेकिन ज…