सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

सड़क से..लेकर बस,ट्रेेन और प्लेन तक मौत का पीछा...आखिर कौन है इन सबके लिये जिम्मेदार?



सबसे पहले राजधानी के छेरी-खेड़ी इलाके से लगी उस बुरी खबर का जिसमें तीन छात्रों की मौत हो गई. दो अन्य भी गंभीर रूप से घायल हुए हैं. राजधानी में फैशन डिजाइनिंग की पढ़ाई करने वाले 10 दोस्त बर्थडे मनाने दो कारों में सवार होकर नया रायपुर जा रहे थे. दोनों कारों के बीच रेस होने लगी, रेस के दौरान दोनों का बैलेंस बिगड़ा और आपस में टकरा गये. हादसे में  कार में सवार तीन छात्रों  की मौत हो गई जबकि दो युवक गंभीर रूप से घायल हैं. इस दर्दनाक हादसे में टाटीबंद रायपुर की  किरण पनेज सहित उसकी क्लास मेट अनिशा सरलिया व सिद्वार्थ अब इस दुनिया में नहीं रहे-सभी को हार्दिक श्रद्वांजलि.
रायपुर की खबर चौका देने वाली है जबकि हंसी खुशी परिवार को लेकर ट्रेन, बस या हवाई जहाज से सफर करने वालों की जिंदगी का भी अब कोई भरोसा नहीं रहा.कभी सपने में भी नहीं आता कि हम जिस सफर पर जा रहे हैं  यह हमारी आखिरी यात्रा हो सकती है, किन्तु हो जाती है. यह मौत कभी एक्सीडेंट के रूप में तो कभी डकैती, लूट, छेड़छाड़ या अन्य किसी तरह से होती है. प्लेन में सफर करने वाले चंद मिनटों या घंटो में अपने गंतव्य पर पहुंच गये तो ठीक वरना डर बना रहता है कि कभी प्लेन का इंजन खराब न हो जाये या फिर कोई अन्य दुर्घटना न घट जाये. आंतकियों के अपहरण का भी भय रहता है लेकिन बस और ट्रेन में सफर करने वाले तो आजकल पैसा देकर मौत या अपनी मुसीबत खरीदते हैं-यह हमारी मजबूरी और सरकार की लापरवाही है जिसके चलते यात्री मुसीबत में फंसते हैं विशेषकर ट्रेनों में सफर करने वालों के ऊपर मुसीबत किस रूप में आ जाये कोई नहीं जानता अब अलीपुरद्वार (पश्चिम बंगाल) के इस परिवार को ही देखिये अपने दस माह के बच्चे को लेकर हंसी खुशी यात्रा पर निकले थे किन्तु दीमा स्टेशन के पास इन्हे मुसीबतों ने घेर लिया और ट्रेन से बच्चे को लेकर कूदने मजबूर कर दिया. दंपत्ति और उनकी बच्ची को गंभीर चोटें आई हैं तथा वे अस्पताल में जीवन और मौत के बीच संघर्ष कर रहे हैं. पश्चिम बंगाल पुलिस जो बखान कर रही है उसके अनुसार पत्नी के साथ ट्रेन में  पुरुषों के एक समूह द्वारा कथित तौर पर छेड़छाड़ और फिर बलात्कार की कोशिश किए जाने के बाद दंपत्ति को अपनी इज्जत बचाने के लिये बच्ची के साथ टे्रन से कूदना पड़ा. यह घटना महानंदा एक्सपे्रेस की है जिसमें 32 वर्षीय आशाबल और उसकी पत्नी (25) अपनी 10 माह की बेटी के साथ सफर कर रहे थे कूदने की वजह यह रही कि रात ट्रेन के जनरल डिब्बे में 10 से 12 शराबियों का समूह  घुस आया और उसने पत्नी के साथ छेडछाड़ शुरू कर दी. ऐसी घटनाओं के लिये आखिर कौन जिम्मेदार है. सब जानते हैं कि ऐसी घटनाएं लगातार हो रही  है फिर भी इन्हें रोकने का प्रयास क्यों नहीं किया जाता? प्लेन में चढ़तेे वक्त यात्रियों का ऊपर से लेकर नीचे तक सारी चीजों की जांच होती है फिर ट्रेन को क्यों बख्शा जाता है? विशेषकर उन ट्रनों को जो लम्बी दूरी तक चलती है. सफर करने वाले अच्छी खासी रकम रेलवे को देते हैं फिर भी कोई गारंटी नहीं कि वे सुरक्षित अपने गंतव्य तक पहुंच जायेंगे. यात्रियों की जेब से निकलने वाले पैसे से मोटे हो रहे टीटीआई आरपीएफ वाले कहां रहते हैं? यात्रियों के समक्ष टे्रन में घटित होने वाली प्राय: घटनाओं को मौन, आंख मीचकर सहन करने के अलावा कोई चारा नहीं रहता.? यात्रियों की इस मजबूरी का फायदा अपराधी तो उठाते ही हैं- रेल प्रशासन भी लापरवाह है. आम यात्रियों की सुरक्षा का कोई इंतजाम किसी भी गाड़ी में नहीं रहता. असल में सारी सुरक्षा यात्रियों के स्टेशन में
पहुंचते ही शुरू हो जाना चाहिये. हर ट्रेन में बंदूकधारी पुलिस के कम से कम दो से तीन जवानों की मौजूदगी किसी भी अनहोनी घटना को टाल सकती है लेकिन ऐसा कोई प्रबंध किसी भी ट्रेन में नहीं है. हर यात्री को टिकिट लेने के बाद भगवान भरोसे छोड़ दिया जाता है इसमें उसके सामान की चोरी हो सकती है.उसकी इज्जत लुट सकती है उसे धक्का देकर ट्रेन से बाहर फेक दिया जा सकता है या और भी कुछ. बेचारा यात्री वास्तव में हमारी भारतीय रेल का एक निरीह प्राणी है जो बेबस,मजबूर यात्रा कर अपने गंतव्य तक पहुंचता है पहुंच गया तो उसकी किस्मत वरना क्या? वह अपनी किस्मत पर रोने वाला अलीपुरद्वार के उन तीन मनुष्यों की तरह है जो आज जिंदगी और मौत से जूझ रहे हैं.




इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …