सोमवार, 24 अगस्त 2015

रेड मंडे-कुछ उलटा तो कुछ पुलटा पाक ने भौंका तो ट्रक ने ट्रेन को ठोका, छग में अदानी की दस्तक!



जो भौंकते हैं वो काटते नहीं-कुत्ते भौंकते हैं, हाथी अपनी चाल चलता है-पाकिस्तान पिछले अड़सठ साल से भांैक रहा है अब हमे परमाणु बम से उड़ा देने की धमकी दे रहा है-हम कहते हैं दम है तो तू अपना बम निकालकर ही दिखा दे, हम तेरा नामोनिशान मिटा देंगे.हम देश के हुकमरानों से बस यही कहना चाहते हैं कि वह पाकिस्तान के आगे किसी भी तरह झुके नहीं और अपनी बात पर अड़े रहें-पाक अपने नापाक इरादों से हमारा कुछ नहीं बिगाड़ सकता. बहरहाल यह अब देश की हुकूमत को तय करना है कि वह पाक की इस धमकी से कैसे निपटेगा. इधर बात नरेन्द्र मोदी सरकार के मंत्रीगणों के बयानों की है, जो कभी भी कोई उटपटांग बयान देकर नरेन्द्र मोदी की छवि को धूमिल करने की कोशिश करते हैं.मध्यप्रदेश से मोदी सरकार के मंत्री नरेन्द्र सिह तोमर ने सोमवार को अच्छे दिन आने की बात को यह कहते हुए ठुकरा दिया कि ऐसा कोई बयान दिया ही नहीं था. क्यों राजनीतिज्ञ इस तरह की झूठ बोलते हैं-क्या वे देश की जनता को इतना बेवकूफ या बहरा समझते हैं? जनता सबकुछ जानती है,सुनती है देखती है और जब मौका मिलता है तो बजाती भी है जैसा मनमोहन की सरकार के साथ किया था इसलिये कम से कम मंत्रियों को तो बहुत ही संभलकर अपना मुंह खोलना चाहिये.छोडिय़े यह राजनीतिज्ञों के काम की बात है वे जाने. इधर सोमवार को सेंसेक्स में सबसी बड़ी गिरावट ने निवेशकों को सात करोड़ की चपत लगाकर किनारे बिठा दिया. यह पहला अवसर था जब सेंसेक्स इतना गिरा इस बीच एक अच्छी खबर छत्तीसगढ़ के लोगों के लिये यह कि पच्चीस हजार करोड़ के निवेश का प्रस्ताव लेकर अदानी ग्रुप ने छत्तीसगढ़ में प्रवेश कर लिया है.संभव है इससे इस अंचल के सैकड़ों लोगों को रोजगार मिलेगा.छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में एक रहस्यमय रेपकांड से पर्दा उठने ही वाला है लगता है नन रेप कांड के नाम से कुख्यात इस मामले में पुलिस ने दो संदेहियों को पकड़ लिया है अब उनका डीएनए टेस्ट होने वाला है. देखो आगे क्या होता है! अगस्त में सोमवार का दिन ब्लड सण्डे के रूप में भी जाना जायेगा-बंगलोर लेबल क्रासिंग पर एक ट्रक ने ट्रेन को ठोक दिया.ट्रेन की पूरी कोच के परखचे उड़ गये-ट्रक ड्रायवर सहित चार पांच लोगों की मौत हो गई अपने ढंग की इस दुर्घटना ने सबको हिलाकर रख दिया.गुजरात में इक्कीस साल के हार्दिक पटेल की पटेलों की आरक्षण देने की मांग को लेकर रैली पर भी सबकी निगाह है, उसने वहां की सरकार को तो हिला ही दिया, देश में भी अपना पताका शीघ्र फहरा दे तो आश्चर्य नहीं करना चाहिये!