सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

व्यापम से भी बड़ा रहस्य अब इसमें आरोपियों, गवाहों की मौत, संदिग्ध मौतों के पीछे आखिर कौन?




हम तंत्र-मंत्र पर विश्वास नहीं करते, इसमें कोई शक्ति है या नहीं यह भी हमें नहीं मालूम क्योंकि विश्व को ईश्वर नामक शक्ति ने बनाया है, उससे बड़ी कोई शक्ति नहीं है. मेरा संपर्क एक वरिष्ठ तांत्रिक से हुआ था जिसने मुझे एक खास बात बताई कि तंत्र विद्या दो तरह की होती है, इसे बड़ी मुश्कि ल से प्राप्त किया जाता है, एक होती है 'पाकÓ और दूसरी 'नापाकÓ. उन्होंने कहा हम तो पाक करते हैं लेकिन जो लोग नापाक करते हैं वह इतने खतरनाक होते हैं कि मुम्बई में बैठकर रायपुर या दुनिया के किसी कोने में किसी को भी मार सकते हैं और लोग कहेंंगे कि उनकी मौत स्वाभाविक हार्ट अटैक से, दुर्घटना अथवा बीमारी से हुई या फिर लीवर फेल हो गया या और कुछ और. आज यह संदर्भ इसलिये भी निकला कि मध्यप्रदेश के देशव्यापी व्यापम घोटाले में कम से कम संदिग्ध पैतालीस मौतों ने यह सवाल खड़ा कर दिया कि आखिर यह मौतें कैसे और क्यों हो रही है. इस पूरे प्रकरण में अधिकांश लोग युवा हैं जिनकी मौत पर कोई भरोसा भी नहीं कर सकता, आखिर यह कौन सी शक्ति है या कौन-सा प्रयोग है जो इस घोटाले  में लिप्त या गवाही देने वाले अथवा मध्यस्थ को एक-एक कर मारे जा रहा है? बहरहाल अब शिवराज सिंह ने फैसला कर लिया है कि इन मौतों के मामले पर सीबीआई जांच कराई जाये. व्यापम घोटाले की ताजातरीन घटना एक और संदिग्ध मौत है, व्यापम के जरिये भर्ती हुई ट्रेनी एसआई अनामिका कुशवाहा ने आज तालाब में कूदकर  आत्महत्या कर ली. चौबीस घंटे के अंदर तीसरी मौत ने इस मामले से जुड़े मृतकों की संख्या 44-45 के आसपास कर दी है. शनिवार  और रविवार को दो लोगों की मृत्यु संदिग्ध परिस्थितियों में हुई  जिनमें जबलपुर मेडिकल कालेज के डीन दिल्ली के एक होटल में मृत पाये गये जबकि आज तक चैनल के खोजी पत्रकार अक्षय सिंह भी इस मामले की और खोज करते-करते एक अन्य मृतका के घर पर ही संदिग्ध परिस्थितियों में मारे गये. डीन डा. शर्मा ने कुछ दिन पहले ही एसटीएफ को व्यापम घोटाले के बारे में दो सौ से ज्यादा जानकारियां सांैपी थी. मध्यप्रदेश प्रोफेशनल एक्सामिनेशन बोर्ड उर्फ मध्यप्रदेश व्यावसायिक परीक्षा मंडल उर्फ व्यापम में भारी अनियमितता की शिकायत सन् 2004 में सामने आई थी इसमें बड़े-बड़े अधिकारी नेताओं के शामिल होने का आरोप लगा, सरकार द्वारा बिठाई गई एसआईटी की जांच के बाद कई बड़े राजनीतिज्ञ नेता और अधिकारी चपेट में आये. मध्यप्रदेश के राज्यपाल और मुख्यमंत्री तक इसकी आंच लगी. 2015 तक इस पूरे मामले में दो हजार से ज्यादा लोग गिरफ्तार किये गये. जांच के दौरान कई लोगों की मौत हुई जिसमें 25-26 के करीब लोगों की मौत तो प्राकृंितक न होकर एकदम संदिग्ध मानी गई जिसके बारे में खोजबीन में कोई तथ्य सामने नहीं आया. मौतों का सिलसिला 2009 को उस समय शुरू हुआ जब इस कांड से जुड़े एक मध्यस्थ विकास सिंह की दवा केे एडवर्स रियेक्शन से मौत हो गई फिर 2010 को एक अन्य मध्यस्थ श्यामवीर यादव की एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई. अंशुल सचिन, अनुज उके, ज्ञान सिंह, दीपक वर्मा सभी मध्यस्थ की मृत्यु 2010 में हुई. 2012 में नम्रता दामोर, आदित्य चौधरी, अनंतराम, अरविन्द साख्या, रिकंू, कांस्टेबल प्रमोद शर्मा की मौत हुई जबकि 2013 में कुलदीप मरावी, प्रेमलता पाण्डे, आशुतोष तिवारी, तरूण मच्चर, आनंद सिंह यादव, देवेन्द्र नागर की मौत हुई. इसी प्रकार 2014 में भी बंटी सिकरवार नामक मध्यस्थ ने भी आत्महत्या कर ली. 2015 शुरू होते ही मौत का सिलसिला जारी है, जनवरी में एक छात्र ललित गोलारिया का शव मुरेैना में पुल के नीचे मिला. जनवरी में ही छात्र रामेन्द्र सिंह भदोरिया भी मारा गया, अमित सागर, शैलेष यादव, विजय सिंह पटेल, नरेन्द्र सिंह तोमर, राजेन्द्र आर्या, अक्षय सिंह, अरूण कुमार ऐसे कितने ही नाम हंै जो इस घोटाले की एसआईटी पूछताछ के बाद संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई. अभी जांच खत्म नहीं हुई हैै. इस पूरे मामले में किसी न किसी रूप से लिप्त लोगों में भय छाया हुआ है कि उनकी मौत कब हो जाये. कुछ ने तो अपनी जान का खतरा बताकर सुरक्षा की मांग भी की है. यह मौतें प्राकृतिक है या सुनियोजित कोई नहीं जानता किन्तु आगे आने वाले समय में जब पूर्ण खुलासा होगा तो सभी को चौंका सकता है.

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …