रविवार, 14 जून 2015

सामाजिक व्यवस्था में मां,बेटी, बहन, पत्नी के रिश्तों पर ग्रहण-दुुष्ट कहर ढाने लगे...!


सामाजिक व्यवस्था में मां,बेटी,
majosep23@gmail.comबहन, पत्नी के रिश्तों पर
ग्रहण-दुुष्ट कहर ढाने लगे...!

जगल में रहने वाले जानवर भी वह कृत्य नहीं करते जो आज इंसान करने लगा है. एक उनतीस साल के लड़के ने अपनी साठ वर्षीय मां को भी नहीं बख्शा उसने उनके साथ बलात्कार किया. यह घटना है उस गुजरात की जहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ,लौह पुरूष सरदार पटेल जैसी हस्तियों का जन्म हुआ और नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री हुए.जिस व्यक्ति ने यह कृत्य किया वह हालाकि गिरफतार कर लिया गया है किन्तु यह इंसान कहलाने लायक भी नहीं है. हैवानियत का नंगा खेल अब हमारे देश में एक प्रवृति बनती जा रही है जिसपर  कानून के लचीलेपन व निकम्मेपन ने हिम्मत देने का काम किया है. साठ सत्तर साल की वृद्वा और दो-तीन साल की बच्चियों तक को  इस एक अरब तीस करोड़ की आबादी वाले देश में चंद हवसी राक्षस अपनी वासना का शिकार बना रहे हैं और हमारा कानून बेबस अदालतों में इन राक्षसों के बचाव  में बहस कर उन्हें प्रोत्साहित कर रहा है. इस बड़ी आबादी का एक छोटा सा वर्ग अगर अपराधी, दरिन्दा और राक्षसी प्रवृति का है तो उसे फांसी के झूले पर लटका दिया जाये तो हमारी कौनसी मानवता नष्ट हो जायेगी?और किसे इसका नुकसान होगा? इस एक कृत्य से कम से कम समाज से यह कोड़ तो खत्म हो जायेगा. आज की प्रमुख आपराधिक खबरों में सागर की एक बारह साल की  बच्ची का भी है जिसे चौदह साल के दो लड़कों ने बंधक बनाकर उसके साथ दो दिन तक रेप किया. बच्ची के हाथ पैर बांधकर उसे बाथरूम में बधंक बना रखा था. कोई भी इस घटना को सुनकर यही कहेगा कि ऐसे दुष्ट अपनी मां की कोख में ही क्यों नहीं मर गये? वास्तव में समाज किस ओर जा रहा है यह अब विद्वानों, कानूनविदो और समाज शास्त्रियो तथा मानवता की वकालत करने वालों को सोचना पड़ेगा कि ऐसे मामलों में उसे क्या करना है? सरकार  को भी चाहिये कि वह महिलाओं पर विशेषकर बच्चियों व वृद्व महिलाओं पर अत्याचार करने वालों के खिलाफ ऐसा कानून बनाये कि समाज में संदेश जाये कि दूसरा कोई ऐसा कृत्य करने की हिम्मत ही न कर सके. बच्ची के साथ दो दिन तक बंधक बनाकर रेप करने वाले दोनो आरोपी भले ही बालिग नहीं है किन्तु बालिग से भी बदतर जुर्म उन्होंने किया वे इतना सोचने की ताकत तो रखते हैं कि उन्हें इसकी क्या सजा  मिल सकती है फिर भी आगे ऐसे लोगो को हमारा कानून कई बहाने बनाकर खुला छोड़ देगा ,इस प्रवृति को रोकने की जरूरत है, जब तक कठोर से कठोर सजा और तुरन्त सजा का प्रावधान नहीं किया जायेगा ऐसी और उससे क्रूरतम घटनाएं होती रहेगी.यूं तो बहुत सी ऐसी घटनाएं  हो रही है किन्तु एक वीभत्स घटना कल यूपी में हुई है जहां एक विवाहिता को एक तरफा प्यार  में पागल होकर एक व्यक्ति ने उसके प्रायवेट पार्ट को गोदकर उसकी हत्या कर दी. ऐेसे वीभत्सतम मामलों में आरोपी को सजा देन में सरकार ढिलाई करेगा और देरी करेगा तो स्वाभाविक है समाज में आगे आने वाले दिनो में लोग मां,बेटी, बहन,पत्नी  के रिश्तो को भूल जायेंगे और सामाजिक व्यवस्था एक नारकीय व्यवस्था में बदल जायेगी.