गुरुवार, 14 मई 2015

ब्लड पे्रशर बढ़ाने वाला बिजली बिल अब लोगों के हार्ट पर भी आघात करने लगा!


ब्लड पे्रशर बढ़ाने वाला बिजली
बिल अब लोगों के हार्ट
पर भी आघात करने लगा!
एक फुट दो इंच लम्बा होता है छत्तीसगढ़ के सीपीडीसीएल (छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी लिमिटेड) का बिल! जो हर महीने उपभोक्ताओं को आन द स्पॉट परोसा जाता है. इसको देखने के बाद कइयों का ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है तो कइयों के दिल की धड़कन रूक जाती है. कई इस चिंता में खो जाते हैं कि आखिर इस बिल को पटाने के बाद मेरे परिवार का क्या होगा? कैसे बच्चे की फीस पटाई जायेगी, कैसे घर का किराया अदा किया जायेगा और कैसे बाबूजी के लिये दवा का प्रबंध किया जायेगा? क्या आप उपभोक्ताओं में से कोई सीपीडीसीएल द्वारा जारी किये जाने वाले बिल में से शुद्ध देयक और सकल देयक के अलावा आपसे वसूल किये जा रहे किसी बिन्दू का सही विश्लेषण कर सकता है? बिल उपभोक्ता को देने का पूरा तरीका तानाशाही, लालफीताशाही से भरपूर और त्रुटिपूर्ण रहता है जिसको विद्युत कंपनी का कोई अधिकारी अथवा इसे बनाने वाला कर्मचारी ही समझ सकता है. आम उपभोक्ताओं के लिये मुसीबत बना यह बिल आगे के दिनों में और आप सभी के लिये और मुसीबत बन सकता है, चूंकि कंपनी ने तय कर लिया है कि वह अपने उपभोक्ताओं को और निचोड़कर ही दम लेगी. आप इतना पैसा अदा नहीं कर सकेंगे- आप उनसे इस बढ़ोतरी का कारण पूछने उनके दफ्तर भी  पहुंच सकते हैं, आपको वे सिर्फ यह कहकर समझायेेंगे कि बिल बढ़ गया है लेकिन आपको बिल में लिखी उन बातों को कोई नहीं समझा पायेगा कि अनाप-शनाप पैसा क्यों वसूला जा रहा है? आपके एक फुट दो इंच लंबे बिल में लिखा उर्जा प्रभार क्या है? विद्युत शुल्क क्या है? उर्जा विकास उपकर क्या है? मीटर किराया क्यों बार-बार लिया जा रहा है? पावर फैक्टर अधिभार रियायत क्यों नहीं दी जा रही? पेनाल्टी, अति. शुल्क, डीएल समायोजन, अति. सुरक्षा निधि, बीसीए क्या है और सुरक्षा निधि बकाया के नाम से हर बिल में राशि क्यों ली जा रही है तथा कब तक यह बकाया राशि आम उपभोक्ताओं को देते रहनी पड़ेगी? जब कोई उपभोक्ता इंटरनेट से आपकी पाई-पाई पटा देता है तो उससे पूर्व बकाया के नाम से वसूली क्यों की जाती है? अन्य प्रभार के नाम से भी हम उपभोक्ताओं से कुछ पैसे  ही सही काटा जाता है? अगर आप एक रुपये देते हैं तो विद्युत कंपनी हम सारे लोगों से यूं लाखों रुपये अपने खजाने में भरती है. कंपनी का यह बिल हर महीने के शुरू में बनना शुरू होता है जिसे महीने के 20 या 23 तारीख को उस समय पटाना पड़ता है जब प्राय: हर व्यक्ति की जेब खाली हो जाती है. नहीं पटाने पर कपंनी के लोग आपकी लाइन काटने के लिये चार आदमियों की सीढ़ी लेकर भेज देते हंै- फिर इसके बाद आपके घर में चूल्हा जले या न जले, बच्चा गर्मी से रोता रहे- उन्हें अपना पैसा वसूलने के सिवा कुछ नजर नहीं आता. विद्युत कंपनी के हर माह परोसे जाने वाले एक फुट दो इंच लम्बे बिल से बड़े अमीर उपभोक्त ाओं को भले ही कोई फरक नहीं पड़ता, लेकिन यह बिल मध्यम व गरीब उपभोक्ताओं के समक्ष गंभीर सवाल खड़ा करता है कि वे घर को रौशन करने के लिये यूं कब तक विद्युत कंपनी को आबाद करते रहेंगे?