सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

प्राकृतिक आपदाओं से किसानों, आम जनता को बचाने 67 साल तक सरकारें क्या करती रहीं?

î

प्राकृतिक आपदाओं से किसानों,
आम जनता को बचाने 67
साल तक सरकारें क्या करती रहीं?

हम जब से दुनियादारी समझने लगे, तब से लेकर अब तक स्वतंत्र भारत में कई बार सूखा पड़ा, ओलावृष्टि हुई, तूफान आया, बाढ़ से तबाही मची. विदेशों से गेहूं चावल आयात करना पड़ा. आम जनता के घर उजड़े, भारी तबाही मची, लोगों को घर जमीन सब छोड़कर भागना पड़ा. किसानों की खड़ी फसल बर्बाद हुई. खेत खलिहान ऐसे बन गये कि उपजाऊ लायक नहीं रह गई फिर भी देश के किसानों ने चू-चपड़ तक नहीं की. प्रकृति और ईश्वर का कोप मानकर उसने इसे गले लगाया लेकिन समय बीतता गया. यह सब देखते-देखते एक के बाद एक पीढ़ी निकल गई, सरकारें आई-गई लेकिन प्रकृति के ताण्डव से इन सरकारों में बैठने वालों की सेहत पर कोई असर नहीं पड़ा. इन सियासतदारों में से भी बहुत से ऐसे होंगे जिनके परिवार को प्रकृति के ताण्डव को झेलना पड़ा होगा लेकिन चूंकि वे सत्ता में हैं इस कारण उनकी समृद्धि की बढ़ोत्तरी  पर कोई असर नहीं पड़ा. नुकसान हुआ तो उन फटे हाल- हल फावड़ा, खुरपी, गैंती लेकर दिन रात हमारे और आपके लिये खाने का प्रबंध करने वाले अन्नदाताओं पर जिनकी ओर न उन लोगों ने देखा और न ही उन पैसे वालों ने जिन्होंने उनसे भूमि लेकर अपने शानो-शौकत को दुगना तिगुना कर दिया. उन सरकारों ने भी इन गरीब अन्नदाताओं की तरफ झांकने का प्रयास नहीं किया जिनके बलबूते वे सरकार की ऊंची-ऊंची कुर्सियों पर बैठकर उनपर राज करते हैं. अन्न पैदा करने वाला दुखी है, उसका पूरा परिवार दुखी  है, वह कभी अपने उजड़े खेतों को देखता है तो कभी अपने फटे हाल जिंदगी बिताने वाले परिवार को. सहायता की आस में वह कभी अपनी सरकार की तरफ भी देखता है किन्तु जब सब ओर से निराश हो जाता है तो किसी कोने में जाकर या तो जहर खा लेता है या फिर अपने घर में पड़ी पुरानी गाय बांधने की रस्सी लेकर उसपर झूल जाता है. बिरले ही ऐसा साहस कर पाते हैं जैसा दोसा हरियाणा के गजेन्द्र राजपूत ने किया. सार्वजनिक तौर पर अपने आपको फांसी पर लटकाकर उसने कम से कम सत्ता के मद में चूर लोगों को आंखें खोलने का संदेश तो दिया. गजेन्द्र की फांसी से वह दिन भी याद आ गये जब आरक्षण को लेकर वीपी सिंह सरकार के समय एक छात्र ने अपने आपको सार्वजनिक रूप से आग के हवाले कर दिया था. आरक्षण, किसान की बदहाली दोनों ही गंभीर समस्या बनकर समाज में व्याप्त है. अब तो लगने लगा कि कई और सरकारें बदल जायेंगी फिर भी न कभी किसानों की समस्या हल होगी और न आरक्षण को सदा-सदा के लिये खत्म किया जायेगा, लेकिन हां इसको वोट के लिये भुनाने का प्रयास जरूर होता रहेगा. हजारों किसानों के साथ एक किसान गजेन्द्र ने भी आत्महत्या कर ली. अब तक आत्महत्या करने वाले छिपकर करते थे लेकिन गजेन्द्र ने अंग्रेजों के समय फांसी पर लटकाने के तरीके को अख्तियार किया-फर्क कोई खास नहीं उस समय सरकार के कहने पर फांसी पर लटकाया जाता था लेकिन इस समय मौन सरकार के आदेश पर यह कर डाला. सरकार से सवाल यह पूछा जा सकता है कि 67 साल में उसने प्राकृतिक आपदाओं से उसकी जनता, विशेषकर किसानों को बचाने के लिये क्यों कदम नहीं उठाये? हर साल प्राकृतिक विपदाओं से अरबों रुपये की फसल बर्बाद हो जाती है. घर बर्बाद हो जाते हैं, जीवन नष्ट हो जाता है. आम लोगों के लिये प्राथमिकता से करने के इन कार्यों में कोताही क्यों बरती गई? हर साल आने वाली विपदाओं से निपटने के लिये पूर्व प्रबंध क्यों नहीं किये जाते? कहां गये सरकार के बोनस देने, बीमा कराने, कृषि उत्पाद का लाभकारी मूल्य तय करने, सिंचाई के लिये नि:शुल्क बिजली देने और ऐसे ही कई वायदे? महल और काला धुआं उड़ाने के इंजन लगा देने से आम आदमी का पेट नहीं भरता. सरकारों को इस बात का ध्यान रखना ही होगा कि देश का अन्नदाता कैसे खुश रहे तभी देश की खुशहाली है, वरना आज एक गजेन्द्र सड़क पर झूला, कल कई गजेन्द्र आपके सिंहासन के सामने ही झूलते नजर आयेंगे...गजेन्द्र राजपूत को श्रद्धासुमन!

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …