सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

मानसिक अस्वस्थों की जिंदगी सड़क पर..जिम्मेदार कौन


एक व्यक्ति तीन दिन तक एक बड़े घराने की गेट के सामने भीषण गर्मी आंधी बारिश में पड़ा रहा. घर के लोगों ने भी उसे देखा, किन्तु पुलिस को खबर करने की जगह उसे अपने नौकरों के मार्फत सरकाकर गली तरफ डाल दिया. आते जाते लोगों ने भी देखा किन्तु किसी को उसपर दया नहीं आई आखिर तीसरे दिन आसपास के लोगों को लगा कि यह शख्स अब मरने वाला है और यहीं पड़ा-पड़ा सड़ जायेगा तो इसकी सूचना पुलिस को देने के लिये दौड़ धूप शुरू हुई और अंतत: पुलिस ने उसे अस्पताल पहुंचाया.जब पुलिस से यह पूछा गया कि शहर में ऐसे घूमने वाले मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों के पास आपके पास क्या व्यवस्था है तो पुुलिस का जवाब था कि हमको सूचना मिलती है तो हम पहुंचते हैं गाड़ी बुलावते हैं, गाड़ी नहीं तो अपने खर्चे पर ही किसी गाड़ी में डालकर मानवता के नाते उन्हें सरकारी अस्पताल पहुंचा देते हैं अस्पताल में ऐसे लोगों के साथ कौनसा ट्रीटमेंंट होता होगा यह सब जानते हैं.  ऐसे लोगों को अस्पताल पहुंचाने वाले पुलिस के लोगों का ही यह कहना है कि थोड़ा बहुत ठीक होने के बाद फिर वैसे ही यह सड़क पर नजर आते हैं. कहीं कूड़ेे के ढेर के पास तो कहीं उस स्थान पर जहां कोई शादी ब्याह या बड़ी पार्टी के बाद अपना खाना फेकते हैं. राजधानी रायपुर सहित देश के विभिन्न राज्यों के शहरों में यह समस्या आजादी के पैसठ साल बाद भी यूं ही बनी हुई है.ऐसे लोगों में से कुछ की मौत जहां ठण्ड से होती है तो कुछ भीषण गर्मी में लू लगने स.े कहीं न कही गिरकर मर जाते हैं या फिर किसी वाहन की चपेट में आकर मारे जाते हैं.देशभर में मानवता की बात करने वाले कई संगठन है जो कहीं न कहीं कुछ काम कर अखबारों की सुर्खियां बनते हैं लेकिन इस गंभीर समस्या पर आज तक किसी ने ध्यान नहीं दिया. मानसिक व शारीरिक अस्वस्थता से पीड़ित व्यक्ति को समाज यूं ही सड़क पर भगवान भरोसे क्यों छोड़ देता है? इस सवाल के साथ कई अन्य सवाल भी उठते हैं जो इस समस्या को और गंभीर बना देता है  कौन हैं वे लोग हैं जो इन मूक लोगों को सड़क पर घूमने और भूखे मरने के लिये छोड़ देते  हैं? पुलिस जब ऐसे लोगों को अस्पताल पहुंचाती है तो उसका कर्तव्य वहीं खत्म नहीं होना चाहिये असल में उस व्यक्ति चाहे वह पुरूष हो या महिला उसकी अस्पताल से स्वस्थता के बाद इस बात का पता लगाया जाना चािहये आखिर वह इस हाल में कैसे पहुंचा ? वह कौन है, कहां का रहने वाला या वाली है तथा उसके रिश्तेदार कौन है  तथा उसको इस हालत में सड़क तक पहुंचाने के लिये जिम्मदार कौन है? जब तक ऐसे अपराधियों के खिलाफ कार्रवाही नहीं होगी यह समस्या बनी रहेगी. नगर निगमों ने आज तक इस दिशा में कोई पहल नहीं की जबकि यह उसी का काम है कि ऐसे लोगों के कपड़े, खाने पीने, रहने तथा उनके इलाज की समुचित व्यवस्था करें. इस ढंग से घूमने वाले एक बड़ा जीवन जी चुके होते हैं अत: यह जरूरी है कि इसके पीछे का रहस्य भी पुलिस खोज निकाले जो इन्हें इस लायक सड़क पर जीने के लिये मजबूर करता है?मानसिक रूप से विक्षिप्त घूमने वालों को पकडकर उन्हें किसी अस्पताल या आश्रम में रखकर उनका इलाज कराने का दायित्व नगर निगमों का होता है किन्तु कम से कम छत्तीसगढ़ में  न किसी निगम ने किसी दस्ते का गठन इसके लिये किया है और न ही कोई ऐस निजी आश्रम अथवा अस्पताल है जिसने इन्हें सही सलामत किसी ठिकाने पर पहुंचाने के लिये कर्मचारी व वाहन की व्यवस्था की है.










इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

उम्र कैद की सजा पर से संदेह खत्म! क्या फांसी की सजा पर भी सुको सज्ञान लेगी?

याकूब मेनन को फांसी  से पहले व बाद से यह बहस का विषय है कि फांसी दी जानी चाहिये या नहीं अभी भी इसपर बहस जारी है लेकिन इस बीच उम्र कैद का मामला भी सुर्खियों में है कि आखिर उम्र कैद होती है, तो कितने साल की? यह माना जाता रहा है कि उम्र कैद का मतलब है- चौदह साल जेल लेकिन अब यह स्पष्ट हो गया है कि उम्र कैद चौदह साल नहीं बल्कि ताउम्र है याने अपराधी की जब तक जिंदगी है तब तक उसे जेल में ही काटनी होगी. छत्तीसगढ के धीरज कुमार, शैलेन्द्र और तीन दोषियों के मामले में याचिका पर सुनवाई के दौरान सर्वोच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति टीएस ठाकुर और वी गोपाला गोवड़ा की बेंच ने समाज के एक वर्ग द्वारा फांसी की सजा के विरूद्व अभियान पर टिप्पणी करते हुए कहा की यह वर्ग चाहता है कि फांसी को खत्म कर उसकी जगह आजीवन कारावास की सजा दी जाये तथा स्पष्ट किया कि उम्र कैद का मतलब उम्र कैद होता है न कि चौदह साल. अपराधी जिसे उम्र कैद हुई है उसे अपनी पूरी उम्र सलाखों के पीछे बितानी होगी. इससे यह तो संकेत मिलता है कि भविष्य में फांसी को खत्म करने पर भी विचार किया जा सकता है. सर्वोच्च अदालत ने अब तक उम्र कैद के संबन्ध में चली…

काले धूल के राक्षसों का उत्पात...क्यों खामोश है प्रशासन

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के औद्योगिक क्षेत्रों-उरला, सिलतरा, सोनढोंगरी,भनपुरी से निकलने वाली काली रासायनिक धूल ने पूरे शहर को अपनी जकड़  में ले लिया है .यह धूल आस्ट्रेलिया के औद्योगिक क्षेत्रों से निकलने वाली धूल से 18 हजार गुना ज्यादा है.
यहां करीब तीन दर्जन उद्योग ऐसे हैं जो चौबीसों घंटे धूल भरी आंधी उगल रहे हैंं ,जिसपर किसी का कोई नियंत्रण नहीं ह्रै. नियंत्रण है तो भी वह कुछ दिनों में छूटकर आसमान और धरती दोनों पर कब्जा कर लेते हैं.
चौकाने वाली बात यह है कि वायु प्रदूषण से सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई है. यह संख्या चीन से ज्यादा है.प्राप्त आंकड़ों के अनुसार भारत में वायु प्रदूषण से जहां 1640 लोगों की मौत के मुकाबले चीन में वायु प्रदूषण से मरने वालों की संख्या (1620 ) ज्यादा है. यह आंकड़े हम यहां इसलिये पेश कर रहे हैं ताकि रायपुर को स्मार्ट सिटी बनाने के लिये इसपर नियंत्रण पाना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिये. वायूु प्रदूषण के बगैर स्मार्ट सिटी,डिजिटल सिटी बनाने का सपना पूरा हो पाना कठिन है. आज स्थिति यह है कि एक स्थान पर कालेधूल को हटाया जाता है तो शहर का दूसरा भाग कालिख पुतवा लेत…

ऊची दुकान फीके पकवान!

रायपुर दिनांक 4 अक्टूबर 2010

ऊँची दुकान फीके पक वान!
कभी बच्चो को परोसे जाने वाला मध्यान्ह भोजन तो कभी होटल, रेस्टोरेंट से खरीदी गई खाने की सामग्री तो कभी किसी समारोह में वितरित होने वाले भोजन के जहरीले होने और उसको खाने से लोगों के बीमार पडऩे की बात आम हो गई हैं। अभी बीते सप्ताह शनिवार को नई राजधानी में सड़क निर्माण कंपनी के मेस का खाना खाकर कई मजदूर बीमार हो गये। कइयों की हालत गंभीर थी। मेस को हैदराबाद की बीएससीपीएल इंफ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड कंपनी चला रही थी। सबसे पहला सवाल यह उठता है कि जब कोई कंपनी या समारोह में इतने व्यक्तियों का खाना एक साथ पकता है उसे लोगों में बांटने के पहले जांच क्यों नहीं होती? खाना बनाने से पहले यह क्यों नहीं देखा जाता कि जहां खाना बनाया जा रहा है वहां का वातावरण पूर्ण साफ सुथरा है या नहीं। स्कूलों में बच्चों को वितरित होने वाले मध्यान्ह भोजन में भी कुछ इसी तरह का होता आ रहा है। बच्चो को जो खाना बनाने के लिये कच्चा माल पहुँचता है उसका उपयोग करने से पहले उसकी सही जांच पड़ताल नहीं होती फलत: उसमें कीड़े मकोड़े व अन्य जीव जन्तु भी मिल जाते हैं। अक्सर समारोह व शादी …