निमोरा हत्याकांड टीन एजर्स सैक्स तो नहीं ?

रायपुर रविवार।दिनांक 22 अगस्त 2010

निमोरा हत्याकांड कहीं पर्दे के पीछे
टीन एजर्स सैक्स तो नहीं ?
जब घर पर मां-बाप नहीं रहते तब बच्चे कई किस्म के खेल खेलते हैं- कुछ खेल ऐसे भी होते हैं जो दूसरे बच्चों को गवारा नहीं होते। वे उस पर लड़ाई कर बैठते है और यहां तक कह बैठते हैं कि मां को आने दो या पिताजी को आने दो हम सब बता देंगे- बस इसी बात को लेकर ज़ोरदार लड़ाई हो जाती हैं, इसमें खून ख़राबा भी हो जा ये तो आश्चर्य नहीं। रायपुर से बीस किलोमीटर दूर निमोरा गांव में बीते शुक्रवार को तीन बच्चों की निर्मम हत्या और उसके बाद उसे जलाने की कोशिश मामले में पिछले अड़तालीस घंटे से पुलिस उलझी हुई है। हमने ऊपर सिर्फ एक उदाहरण दिया कि कुछ ऐसा भी हो सकता है। इसके अलावा घटना का कारण चोरी भी हो सकता है जिसे बच्चों ने देख लिया और हत्या हो गई। तीसरा और महत्वपूर्ण कारण सेक्स है, जो वहां मौजूद बच्चों ने देखा तथा इसका भेद न खुले इसके लिये खूनी खेल खेला गया। हम इस मामले में दावे के साथ नहीं कह सकते कि भुनेश्वरी नामक लड़की जो कि इस परिवार की एक सदस्या है, के साथ कोई अन्य युवक भी यहां मौजूद था जिसके हाथों या दोनों की मिली भगत से यह हत्या हो सकती है। अब तक की पुलिस जांच पड़ताल में जो निष्कर्ष सामने आ रहे हैं। वे यही संकेत दे रहे हैं। टीनएजर्स के बीच बढ़ते लव अफे यर्स का यह ग्रामीण रूप हो सकता है, जो इतने बड़े हत्याकांड के रूप में तब्दील हो गया। पुलिस की जांच पड़ताल में एक संदिग्ध भुनेश्वरी है, जो हर सवाल पर हां या न तक ही सीमित होकर चुप है। घर के पास पुरूष की चप्पल मिलना आदि सब यही इंगित कर रहा है कि कुछ न कुछ दाल में काला है। इस मामले में एक दूसरा पहलू आपसी रंजिश का भी हो सकता है। धरसीवा क्षेत्र के कुछ गांवों का पूर्व इतिहास देखा जाये तो यह स्पष्ट होता है कि यहां आपसी रंजिश और गुटबाजी चरम पर है। कुछ वर्षाे पूर्व भैसमुड़ा में तीन व्यक्तियों की हत्या के आरोपियों को हाल के दिनों में ही कारावास की सजा हुई है। निमोरा के इस वीभत्स हत्याकांड पर से जब पर्दा हटेगा तब संभव है यह या तो टीन एजर्स के बीच अवैध संबंधों को लेकर की गई हत्या का मामला निकले या फिर आपसी रंजिश अथवा चोरी की गरज से घर में घुसे व्यक्ति या व्यक्तियों द्वारा की गई हत्या का मामला। जो भी हो इस अंधे तिहरे हत्याकांड की गुत्थियों को सुलझाना छत्तीसगढ़ पुलिस के लिये एक चुनौती है। मगर बात साफ है कि इस पूरे हत्याकांड में हत्यारा गांव में ही कहीं मौजूद है, और छुट्टा घूम कर सारी गतिविधियों का जायजा ले रहा है। पुलिस को शायद आज या कल अथवा एक दो दिन और इस मामले में इंतजार करना पड़ सकता है।

लोकप्रिय पोस्ट